Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मेंढक और ऊँट

दिन और रात
में यही फर्क है
मेंढक की सवारी है
ऊँट की लाचारी है

आप भी कहोगे
क्या मज़ाक है…?
कोई मेंढक की
सवारी करता है क्या?

फिर क्या उपमा दूँ?
लोमड़ी, शेर, चीता
नहीं, नहीं
यह हो नहीं सकता

कभी देखा है खुद को
रातभर टर्र टर्र करते हो
सुबह होते ही
ऊँट की तरह
जुगाली करके
निकल पड़ते हो।

तुम भी मौसमी मेढक हो
मौसम देखकर
टर्र टर्र करते हो
यही तुम्हें अच्छी लगती है
कैसी भी हो सियासत
भली लगती है।

ऊंट तो खामोश है
बोझ कहाँ देखता है।
तुम भी ज़रा अपनी
पीठ को देख लो
हो सकता है तुम कहो
मैं ऊँट हूँ.. मैं ऊँट हूँ।।

सूर्यकांत

1 Like · 1 Comment · 120 Views
You may also like:
मजदूर- ए- औरत
AMRESH KUMAR VERMA
इश्क का दरिया
Anamika Singh
स्वतंत्रता की सार्थकता
Dr fauzia Naseem shad
“सराय का मुसाफिर”
DESH RAJ
✍️✍️ठोकर✍️✍️
'अशांत' शेखर
सैनिक
AMRESH KUMAR VERMA
✍️सलीक़ा✍️
'अशांत' शेखर
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
सपनों का महल
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
असतो मा सद्गमय
Kanchan Khanna
जीवन दायिनी मां गंगा।
Taj Mohammad
माँ
सूर्यकांत द्विवेदी
✍️अच्छे दिन✍️
'अशांत' शेखर
✍️तर्क✍️
'अशांत' शेखर
स्वयं में एक संस्था थे श्री ओमकार शरण ओम
Ravi Prakash
छंदों में मात्राओं का खेल
Subhash Singhai
दिल हमारा।
Taj Mohammad
कभी हक़ किसी पर
Dr fauzia Naseem shad
पूँछ रहा है घायल भारत
rkchaudhary2012
जब जब ही मैंने समझा आसान जिंदगी को
सत्य कुमार प्रेमी
निज़ामी आसमां की।
Taj Mohammad
चाय-दोस्ती - कविता
Kanchan Khanna
✍️अपने शामिल कितने..!✍️
'अशांत' शेखर
'चाँद गगन में'
Godambari Negi
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
मरने के बाद।
Taj Mohammad
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
कलम
Pt. Brajesh Kumar Nayak
मैं पिता हूँ
सूर्यकांत द्विवेदी
मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
Loading...