Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 18, 2022 · 1 min read

मृत्यु

जिनकी गबन से आज
आतंकित होते सबलोग
वहीं अंत यथार्थ हमारा
मृत्यु ही पदांत्य हमारा।

इंतकाल से हर एक मनुज
निगूहन चाहता इस भव में
अजेय से सर्वपूर्व वो सगोत्र
जड़ी- बुट्टी, डॉक्टर- वैध से
स्वजन करवाता दवा- दारू।

कोई भी प्राणीवान आज
प्राण मोक्ष न चाहता कोई
कितना भी संताप झेलकर
निश्रेणी चाहता हर पल वो।

अवसान जब हो जाती
हम छोड़ जाते भव को
जाने के पश्चात भी उन्हें
कुछ अच्छी-बुरी सँवर से
याद करते उन्हें जहांन में।

अमरेश कुमार वर्मा
जवाहर नवोदय विद्यालय बेगूसराय, बिहार

5 Likes · 1 Comment · 184 Views
You may also like:
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
“ ईमानदार चोर ”
DrLakshman Jha Parimal
कहानी *"ममता"* पार्ट-4 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
ये सिर्फ मैं जानता हूँ
Swami Ganganiya
हम आज भी हैं आपके.....
अश्क चिरैयाकोटी
हर रास्ते की अपनी इक मंजिल होती है।
Taj Mohammad
श्रावण गीत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हाय बरसात दिल दुखाती है
Dr fauzia Naseem shad
यह मत भूलों हमने कैसे आजादी पाई है
Anamika Singh
सच तो यह है
gurudeenverma198
कोई ख़्वाहिश
Dr fauzia Naseem shad
तुम बिन लगता नही मेरा मन है
Ram Krishan Rastogi
“ शिष्टता के धेने रहू ”
DrLakshman Jha Parimal
“ मेरे राम ”
DESH RAJ
मजदूर.....
Chandra Prakash Patel
कलयुग की माया
डी. के. निवातिया
आरजू
Kanchan Khanna
मजदूर की रोटी
AMRESH KUMAR VERMA
खानाबदोश ज़िंदगी
Gaurav Dehariya साहित्य गौरव
अत्याचार
AMRESH KUMAR VERMA
कहवां जाइं
Dhirendra Panchal
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
जात पात
Harshvardhan "आवारा"
फल
Aditya Prakash
सरसी छंद और विधाएं
Subhash Singhai
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमने किस्मत से आँखें लड़ाई मगर
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️पलभर का इश्क़✍️
'अशांत' शेखर
जब से आया शीतल पेय
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...