Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jun 2022 · 1 min read

मृगतृष्णा / (नवगीत)

सिलबट्टे पर
चटनी जैसा
घिसता रहता आदमी ।

एक यहाँ की,
एक वहाँ की
डींग मारता ।
जाने किसकी
कहाँ-कहाँ की
हींग फाँकता ?

ख़ुद जाले में
मकड़ी जैसा
उलझा रहता आदमी ।

गिरगिट जैसा
रंग बदलता
झटपट-झटपट ।
मृगतृष्णा में
भागा,फिरता,
सरपट-सरपट ।

बिन पेंदी के
लोटे जैसा
लुढ़का रहता आदमी ।

उल्लू जैसा
जाग रहा है
रातों-रातों ।
आलस के पल
काट रहा है
बातों-बातों ।

बिना नमक के
भोजन जैसा
ज़िन्दा रहता आदमी ।

सिलबट्टे पर
चटनी जैसा
घिसता रहता आदमी ।

0000
— ईश्वर दयाल गोस्वामी ।

Language: Hindi
Tag: गीत
8 Likes · 12 Comments · 262 Views
You may also like:
कस्तूरी मृग
Ashish Kumar
प्रकृति के साथ जीना सीख लिया
Manoj Tanan
मत्तगयंद सवैया छंद
संजीव शुक्ल 'सचिन'
My dear Mother.
Taj Mohammad
ईश्वर की परछाई
AMRESH KUMAR VERMA
विश्व मानसिक दिवस
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
सांस लेती है
Dr fauzia Naseem shad
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
शहादत
shabina. Naaz
आज़ाद हो जाओ
Shekhar Chandra Mitra
ग़ज़ल
kamal purohit
दास्तां-ए-दर्द
Seema 'Tu hai na'
Advice
Shyam Sundar Subramanian
मांँ की सीरत
Buddha Prakash
निभाना ना निभाना उसकी मर्जी
कवि दीपक बवेजा
*कौए काले (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
✍️कुछ दबी अनकही सी बात
'अशांत' शेखर
करें नहीं ऐसे लालच हम
gurudeenverma198
मुक्तक- उनकी बदौलत ही...
आकाश महेशपुरी
अनमोल घड़ी
Prabhudayal Raniwal
दिशा
Saraswati Bajpai
करते रहिये काम
सूर्यकांत द्विवेदी
कर्म
Anamika Singh
जय-जय भारत!
अनिल मिश्र
चार वीर सिपाही
अनूप अंबर
मूक प्रेम
Rashmi Sanjay
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
" भेड़ चाल कहूं या विडंबना "
Dr Meenu Poonia
🌺🍀सुखं इच्छाकर्तारं कदापि शान्ति: न मिलति🍀🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Loading...