Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#20 Trending Author

मूक हुई स्वर कोकिला

मुझे कहे टूटी कलम,
शोकाकुल संगीत
मूक हुई स्वर कोकिला,
हाय! रचो ना गीत

सुर साधक सच्ची रही,
सरस्वती का रूप
सबके लिए रही लता,
प्रेरणा का स्वरूप
•••
_____________________
*महान पर्श्व गायिका लता मंगेशकर (1929-2022) अब हमारे बीच शारीरिक रूप से मौजूद नहीं!
लेकिन उनकी जादुई आवाज़ हमेशा विश्व के संगीत क्षितिज पर गूंजती रहेगी।

2 Likes · 2 Comments · 138 Views
You may also like:
अमर कोंच-इतिहास
Pt. Brajesh Kumar Nayak
GOD YOU are merciful.
Taj Mohammad
शोहरत और बंदर
सूर्यकांत द्विवेदी
निर्गुण सगुण भेद..?
मनोज कर्ण
मिठास- ए- ज़िन्दगी
AMRESH KUMAR VERMA
धार्मिक उन्माद
Rakesh Pathak Kathara
"अंतरात्मा"
Dr. Alpa H. Amin
✍️जिद्द..!✍️
"अशांत" शेखर
बहाना
Vikas Sharma'Shivaaya'
मां
Anjana Jain
मन के गाँव
Anamika Singh
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
बेड़ियाँ
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रामायण आ रामचरित मानस मे मतभिन्नता -खीर वितरण
Rama nand mandal
पिता का सपना
Prabhudayal Raniwal
एक थे वशिष्ठ
Suraj Kushwaha
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
"मैं तुम्हारा रहा"
Lohit Tamta
पिता
KAMAL THAKUR
मैं पिता हूं।
Taj Mohammad
★TIME IS THE TEACHER OF HUMAN ★
KAMAL THAKUR
समीक्षा -'रचनाकार पत्रिका' संपादक 'संजीत सिंह यश'
Rashmi Sanjay
तोड़कर मुझे न देख
अरशद रसूल /Arshad Rasool
सम्मान की निर्वस्त्रता
Manisha Manjari
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
उसे कभी न ……
Rekha Drolia
कहो अब और क्या चाहें
VINOD KUMAR CHAUHAN
आपके जाने के बाद
pradeep nagarwal
कौन कहता कि स्वाधीन निज देश है?
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...