Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 25, 2022 · 1 min read

मूक प्रेम

वो मेरी हथेली पर..
अपनी उंगलियों से..
अपना नाम लिखता रहा!
छलकती रहीं
छिपी ऑंखें..
और
मूक प्रेम..
दृढ़ता के साथ..
सॅंवरता रहा!

स्वरचित
रश्मि लहर

3 Likes · 2 Comments · 58 Views
You may also like:
इश्क है यही।
Taj Mohammad
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कातिलाना अदा है।
Taj Mohammad
बेबस पिता
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कुएं का पानी की कहानी | Water In The Well...
harpreet.kaur19171
बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं
Ram Krishan Rastogi
विश्व पुस्तक दिवस (किताब)
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
रफ़्तार के लिए (ghazal by Vinit Singh Shayar)
Vinit kumar
गधा
Buddha Prakash
A cup of tea ☕
Buddha Prakash
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
कर भला सो हो भला
Surabhi bharati
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
सच्चा रिश्ता
DESH RAJ
हम पे सितम था।
Taj Mohammad
"एक नज़्म लिख रहा हूँ"
Lohit Tamta
दिल्ली की कहानी मेरी जुबानी [हास्य व्यंग्य! ]
Anamika Singh
श्री अग्रसेन भागवत ः पुस्तक समीक्षा
Ravi Prakash
नई तकदीर
मनोज कर्ण
चलो जिन्दगी को फिर से।
Taj Mohammad
** तेरा बेमिसाल हुस्न **
DESH RAJ
सबकुछ बदल गया है।
Taj Mohammad
अशोक विश्नोई एक विलक्षण साधक (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
संकोच - कहानी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पिता का दर्द
Nitu Sah
कैलाश मानसरोवर यात्रा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
A Warrior Of The Darkness
Manisha Manjari
समय ।
Kanchan sarda Malu
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
.✍️आशियाना✍️
"अशांत" शेखर
Loading...