Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 4, 2022 · 1 min read

मूकदर्शक

आजकल मैं देखता हूं सभी कल्पना लोक में
जी रहे हैं ,
वास्तविकता को नकार , तथ्यों को झुठला, झूठ की पैरवी कर रहे हैं ,
यथार्थ का कधन कड़वा है , चाशनी में डूबी मीठी बातों की तरह रुचिकर नही है ,
झूठे प्रलोभनों और वादों से सुसज्जित सपनों के सब्जबागों समान प्रतीत हितकर नही है ,
मुफ्तखोरी, मुनाफाखोरी, जमाखोरी, छल- कपट, और भ्रष्टाचार का बाजार गरम है ,
परिश्रम, कर्मनिष्ठा,सत्यनिष्ठा,सदाचार,
सद्व्यवहार की अपेक्षा मात्र भ्रम है ,
कुछ समझ में नहीं आता है , यह परिवर्तन की दिशा है , या कटुसत्य से पलायन ,
अथवा अधोगति अग्रसर प्रयाण ,
मानवीय मूल्यों का हनन , संस्कारों का पतन,
या राक्षसी प्रवृत्तियों के आविर्भाव का प्रमाण ,
मैं यह सब देख प्रतिक्रियाविहींन
जड़ होकर रह जाता हूं ,
मैं किंकर्तव्यविमूढ़ सा एकाकी
मूकदर्शक बना रह जाता हूं ,

1 Like · 4 Comments · 37 Views
You may also like:
बहुत हुशियार हो गए है लोग
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
हम अपने मन की किस अवस्था में हैं
Shivkumar Bilagrami
मेरे हर खूबसूरत सफर की मंज़िल हो तुम,
Vaishnavi Gupta
✍️सिर्फ दो पल...दो बातें✍️
'अशांत' शेखर
आपकी स्वतन्त्रता
Dr fauzia Naseem shad
✍️नोटबंदी✍️
'अशांत' शेखर
पिता
Rajiv Vishal
वो एक तुम
Saraswati Bajpai
तिलका छंद "युद्ध"
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
मौत।
Taj Mohammad
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
क्या मुझे हिफ़्ज़
Dr fauzia Naseem shad
श्री गंगा दशहरा द्वार पत्र (उत्तराखंड परंपरा )
श्याम सिंह बिष्ट
सुधार लूँगा।
Vijaykumar Gundal
सावन आया झूम के .....!!!
Kanchan Khanna
किसकी तलाश है।
Taj Mohammad
शमा से...!!!
Kanchan Khanna
एक प्रयास अपने लिए भी
Dr fauzia Naseem shad
मेरा स्वाभिमान है पिता।
Taj Mohammad
यूं तो लगाए रहता है हर आदमी छाता।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️क़ुर्बान मेरा जज़्बा हो✍️
'अशांत' शेखर
हमदर्द कैसे-कैसे
Shivkumar Bilagrami
जिन्दगी और दर्द
Anamika Singh
✍️शब्दांच्या संवेदना...✍️
'अशांत' शेखर
सद्ज्ञानमय प्रकाश फैलाना हमारी शान है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
आफताबे रौशनी मेरे घर आती नहीं।
Taj Mohammad
बहुत बुरा लगेगा दोस्त
gurudeenverma198
कविता 100 संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
हर लम्हा कमी तेरी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...