Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 12, 2016 · 1 min read

[[ मुहब्ब्त में मुझको बिखरने दो यारों ]]

? मुहब्ब्त में मुझको बिखरने दो यारों ,!
हदों से मुझे भी गुज़रने दो यारो ,!! १

मुहब्ब्त की कलियाँ यहाँ खिल गई हैं ,!
मुहब्ब्त की खुशबू महकने दो यारों ,!! २

कठिन रास्ता है मुहब्ब्त यहाँ पर ,!
में गिरकर उठा हूँ संभलने दो यारों ,!! ३

यही राज उनसे छिपाया है’ मैने ,!
उन्हें आज उल्फ़त भी करने दो यारो ,!! ४

सताती है यादें उन्ही की मुझे तो ,!
दिलो में मुहब्ब्त उतरने दो यारों ,!! ५

कई बार रोका नहीं रुकते’ आँसू ,!
ज़रा आँसुओ को पिघलने दो यारों ,!! ६

मिला है खजाना मुहब्ब्त मुझे भी ,!
लुटाकर मुझे भी भटकने दो यारों ,!! ७

हँसाया है मैने यहाँ पर उन्ही को ,!
उन्हें भी जरा सा बिलखने दो यारों ,!! ८

सँवारा है सब को खुदा ने यहाँ पर ,!
जरा सा मुझे भी संवरने दो यारों ,!! ९

मुहब्ब्त उन्ही से छिपाई है मैने ,!
मुझे प्यार में अब मचलने दो यारों ,!! १०

नितिन हर ख़ुशी मिल गई जिंदगी में ,!
मुझे भी ज़रा सा चहकने दो यारों ,!! ११

Nitin Sharma

108 Views
You may also like:
💐मनुष्यशरीरस्य शक्ति: सुष्ठु नियोजनं💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुझको ये जीवन जीना है
Saraswati Bajpai
ऐसा ही होता रिश्तों में पिता हमारा...!!
Taj Mohammad
नई तकदीर
मनोज कर्ण
* राहत *
Dr. Alpa H. Amin
बुंदेली दोहा- गुदना
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
"स्नेह सभी को देना है "
DrLakshman Jha Parimal
क्या गढ़ेगा (निर्माण करेगा ) पाकिस्तान
Dr.sima
रमेश कुमार जैन ,उनकी पत्रिका रजत और विशाल आयोजन
Ravi Prakash
जिंदगी में जो उजाले दे सितारा न दिखा।
सत्य कुमार प्रेमी
गज़लें
AJAY PRASAD
तेरी सुंदरता पर कोई कविता लिखते हैं।
Taj Mohammad
सारी दुनिया से प्रेम करें, प्रीत के गांव वसाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मां जैसा कोई ना।
Taj Mohammad
जीवन
vikash Kumar Nidan
शहीद बनकर जब वह घर लौटा
Anamika Singh
एक दिया अनजान साथी के नाम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आवत हिय हरषै नहीं नैनन नहीं स्नेह।
sheelasingh19544 Sheela Singh
वर्तमान से वक्त बचा लो तुम निज के निर्माण में...
AJAY AMITABH SUMAN
💐 ग़ुरूर मिट जाएगा💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव मिश्र अदम्य
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
कलियों को फूल बनते देखा है।
Taj Mohammad
मुक्तक: युद्ध को विराम दो.!
Prabhudayal Raniwal
काबुल का दंश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
An abeyance
Aditya Prakash
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
प्यार, इश्क, मुहब्बत...
Sapna K S
Loading...