Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 9, 2016 · 1 min read

[[ मुहब्बत में सनम आँखे बही मालूम होती हैं ]]

?
मुहब्बत में सनम आँखे बही मालूम होती हैं !
अँधेरी रात है और चाँदनी मालूम होती हैं !!

मुहब्बत को जमाने से मिटाने फिर चले देखो !
मुहब्बत में बग़ावत फिर हुई मालूम होती हैं !!

नितिन शर्मा

113 Views
You may also like:
तेरा चलना ओए ओए ओए
D.k Math
जहां चाह वहां राह
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️इश्तिराक✍️
"अशांत" शेखर
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आज बहुत दिनों बाद
Krishan Singh
पहले वाली मोहब्बत।
Taj Mohammad
मित्रों की दुआओं से...
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"चैन से तो मर जाने दो"
रीतू सिंह
राहतें ना थी।
Taj Mohammad
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण
दादी मां की बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
कृष्ण पक्ष// गीत
Shiva Awasthi
कविता क्या है ?
Ram Krishan Rastogi
मृत्यु डराती पल - पल
Dr.sima
आया सावन ओ साजन
अनामिका सिंह
#क्या_पता_मैं_शून्य_हो_जाऊं
D.k Math
मैं आज की बेटी हूं।
Taj Mohammad
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
*कलम शतक* :कवि कल्याण कुमार जैन शशि
Ravi Prakash
परीक्षा को समझो उत्सव समान
ओनिका सेतिया 'अनु '
देखा जो हुस्ने यार तो दिल भी मचल गया।
सत्य कुमार प्रेमी
चाहत की हद।
Taj Mohammad
सपनों का महल
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
✍️जुर्म संगीन था...✍️
"अशांत" शेखर
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
लूटपातों की हयात
AMRESH KUMAR VERMA
✍️चार कदम जिंदगी✍️
"अशांत" शेखर
“ फेसबुक क प्रणम्य देवता ”
DrLakshman Jha Parimal
तकदीर
अनामिका सिंह
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
Loading...