Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 15, 2022 · 1 min read

मुस्कुराना सीख लो

मुस्कुराना सीख लो,
आदत पुराना छोड़ दो
मुस्कुराता हुआ चेहरा खिला हुआ नजर
बड़ी प्यारी चीज है, जो हर किसी के नसीब।
मुस्कुराना सीख लो ,आदत पुराना छोड़ दे।
थोड़ी बड़ी जिंदगी जीना सीख लो।
मुस्कुराना सीख लो, नजर चुराना छोड़ दो।
आदत पुराना छोड़ दो। – डॉ.सीमाकुमारी ‘बिहार ‘भागलपुर15-6-022 की मौलिक स्वरचित रचना जिसे आज प्रकाशित किया है।

2 Likes · 77 Views
You may also like:
✍️हिटलर अभी जिंदा है...✍️
'अशांत' शेखर
दुनियां फना हो जानी है।
Taj Mohammad
तीन शर्त"""'
Prabhavari Jha
पिता
pradeep nagarwal
जनसंख्या नियंत्रण जरूरी है।
Anamika Singh
इश्क में तन्हाईयां बहुत है।
Taj Mohammad
💐 माये नि माये 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कुछ तो उबाल दो
Dr fauzia Naseem shad
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
'बादल' (जलहरण घनाक्षरी)
Godambari Negi
करो नहीं किसी का अपमान तुम
gurudeenverma198
बुरी आदत
AMRESH KUMAR VERMA
इक ख्वाहिश है।
Taj Mohammad
तन्हाई के आलम में।
Taj Mohammad
✍️जिंदगी क्या है...✍️
'अशांत' शेखर
आखिरी कोशिश
AMRESH KUMAR VERMA
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
Father is the real Hero.
Taj Mohammad
पूनम की रात में चांद व चांदनी
Ram Krishan Rastogi
गीत- अमृत महोत्सव आजादी का...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कायनात से दिल्लगी कर लो।
Taj Mohammad
मैं द्रौपदी, मेरी कल्पना
Anamika Singh
स्वार्थ
Vikas Sharma'Shivaaya'
💔💔...broken
Palak Shreya
" सहज कविता "
DrLakshman Jha Parimal
मेरी भोली “माँ” (सहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता)
पाण्डेय चिदानन्द
जिन्दगी में होता करार है।
Taj Mohammad
परिस्थितियों के आगे न झुकना।
Anamika Singh
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
Loading...