Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

मुस्कुराना आ गया

=हार में भी जीत सी खुशियाँ मनाना आ गया
दर्द सहकर भी हमें अब मुस्कुराना आ गया,

आपकी इस खुशमिजाजी ने किया ऐसा असर
आपसे मिलकर हमें भी मुस्कुराना आ गया

आजकल के दौर का अंदाज सीखा इस तरह
काम कुछ करते नहीं बातें बनाना आ गया

साथ जो उनका मिला, खुशियाँ पलट कर आ गईं
जिंदगी में दोस्त यूँ हँसना हँसाना आ गया

आज बीबी से झगड़ना, गुस्ल में भारी पड़ा
पायजामे की जगह जम्फर जनाना आ गया

सात फेरे डाल कर लाए जिन्हें थे कृष्ण हम
नाचते हैं हम उन्हें जब से नचाना आ गया

श्रीकृष्ण शुक्ल, मुरादाबाद

148 Views
You may also like:
झूला सजा दो
Buddha Prakash
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
आस
लक्ष्मी सिंह
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
पिता
Ram Krishan Rastogi
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
देव शयनी एकादशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
पिता
Manisha Manjari
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
पहचान...
मनोज कर्ण
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...