Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
May 27, 2016 · 1 min read

मुश्किलो ने कहाँ,क्यूँ तू रूकता नही

मुश्किलो ने कहाँ,क्यूँ तू रूकता नही,
दिन रात चलने पर भी क्यूँ तू थकता नही।
विश्वास से पूरित तेरा मुख दिख रहा है,
साधना की कलम से किस्मत लिख रहा है।
लोभ,मोह के आगे भी अब तू झुकता नही,
मुश्किलो ने कहाँ,क्यूँ तू रूकता नही।

हँसकर कहाँ मैंने अब न रूकना मुझे ,
भले तुम आती जाओ अब न झुकना मुझे।
मैं चलूँगा,बढूँगा,और बढता ही रहूँगा,
संघर्षो में तपकर निखरता ही रहूँगा।
हार जाने के डर से अब मैं डरता नही,
मुश्किलो ने कहाँ,क्युँ तू रूकता नही|
-वीर सिंह

220 Views
You may also like:
लौटे स्वर्णिम दौर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Two Different Genders, Two Different Bodies And A Single Soul
Manisha Manjari
चौंक पड़ती हैं सदियाॅं..
Rashmi Sanjay
नारी है सम्मान।
Taj Mohammad
आप कौन है
Sandeep Albela
ये दिल टूटा है।
Taj Mohammad
पराधीन पक्षी की सोच
AMRESH KUMAR VERMA
पिता श्रेष्ठ है इस दुनियां में जीवन देने वाला है
सतीश मिश्र "अचूक"
बगिया जोखीराम में श्री चंद्र सतगुरु की आरती
Ravi Prakash
सुनसान राह
AMRESH KUMAR VERMA
खुशबू चमन की किसको अच्छी नहीं लगती।
Taj Mohammad
💐नाशवान् इच्छा एव पापस्य कारणं अविनाशी न💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये ख्वाब न होते तो क्या होता?
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेरी तस्वीर
Dr fauzia Naseem shad
कलम की वेदना (गीत)
सूरज राम आदित्य (Suraj Ram Aditya)
तेरे दिल में कोई साजिश तो नहीं
Krishan Singh
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
**जीवन में भर जाती सुवास**
Dr. Alpa H. Amin
✍️क्या क्या पढ़ा है आपने ?✍️
"अशांत" शेखर
खेत
Buddha Prakash
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
लता मंगेशकर
AMRESH KUMAR VERMA
✍️वो कहना ही भूल गया✍️
"अशांत" शेखर
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
यादों की साजिशें
Manisha Manjari
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
तुम हो फरेब ए दिल।
Taj Mohammad
सुकूं का प्यासा है।
Taj Mohammad
नूर
Alok Saxena
जगत जननी है भारत …..
Mahesh Ojha
Loading...