Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मुश्किलें

वो दौर भी आएगा ,जब मुश्किलें आसान होंगी।
खुशियां अभी मेहमान हैं ,कल मुश्किलें मेहमान होंगी।
-सिद्धार्थ

1 Like · 151 Views
You may also like:
✍️✍️यज़दान✍️✍️
"अशांत" शेखर
थक गये हैं कदम अब चलेंगे नहीं
Dr Archana Gupta
सावन के काले बादल औ'र बदलियां ग़ज़ल में।
सत्य कुमार प्रेमी
" आपके दिल का अचार बनाना है ? "
DrLakshman Jha Parimal
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
ऐ बादल अब तो बरस जाओ ना
नूरफातिमा खातून नूरी
प्रिय
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
ज़रूरी नहीं।
Taj Mohammad
हरियाली और बंजर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव मिश्र अदम्य
कविता - राह नहीं बदलूगां
Chatarsingh Gehlot
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
✍️13/07 (तेरा साथ)✍️
"अशांत" शेखर
प्यार करते हो मुझे तुम तो यही उपहार देना
Shivkumar Bilagrami
हर रास्ते की अपनी इक मंजिल होती है।
Taj Mohammad
अहंकार
AMRESH KUMAR VERMA
" फेसबुक वायरस "
DrLakshman Jha Parimal
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
जितना भी पाया है।
Taj Mohammad
नख-शिख हाइकु
Ashwani Kumar Jaiswal
आजमाइशें।
Taj Mohammad
🌺प्रेम की राह पर-52🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लूं राम या रहीम का नाम
Mahesh Ojha
मानव तू हाड़ मांस का।
Taj Mohammad
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
*शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
Mukesh Pandey
कशमकश का दौर
Saraswati Bajpai
ढूंढना दिल उसी को
Dr fauzia Naseem shad
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
Loading...