Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jan 2022 · 2 min read

मुर्गा बेचारा…

मुर्गा बेचारा
~~°~~°~~°
मुर्गा बेचारा,
देशी प्रजाति का,
मस्त और इन्द्रधनुषी रंगों से सराबोर,
ऊपर में बदलाव का लाल टोपी पहने हुए,
सबके दिलों का प्यारा,
सुबह-सुबह बांग देने में,
कोई कसर नहीं रखता।
उठो मुसाफिर, जगो मुसाफिर के,
अंतर्नाद से,
सभी जनों को चौकन्ना रखता।
मनुष्य की हर गतिविधि को,
बारीकी से परखता।
लेकिन नववर्ष की पूर्व बेला में,
कुछ दिन पूर्व से ही,
अजीब हरकतें करने लगा था वह,
शायद नववर्ष की तैयारी के लिए,
होने वाले चहलकदमियों से,
आशंकित था वो,
अब वह दाना डालने पर भी,
आंगन में नहीं आता,
सुबह की कुकड़ू-कु की आवाज से भी,
लोगों को नहीं जगाता।
सुबह-सुबह बांग देता भी क्यों भला,
अब उसे इंसानों के प्रति,
दास्ताँ-ए-मोहब्बत जुबां पर,
आ ही नहीं रही थी ।
दिन भर और रात को भी,
आंगन किनारे,
अमरूद की पेड़ पर बैठा रहता,
और लोगों द्वारा पीछा करते ही,
उड़कर दूसरे पेड़ पर चला जाता,
वो सहमा था इसलिए कि,
नववर्ष बीत तो जाए,
तो फिर उसके बाद से,
जीवनचर्या को सही कर लूंगा।
लेकिन उसका पालनहार भी,
नववर्ष की खुशी के लिए
उसके नर्म गोस्त से,
अपनी जिह्वा को आनंदित करने के लिए,
सब दाव पेंच आजमा रहा था।
पुराने वर्ष के अंतिम तिथि को,
एक साथ चार जनों ने साथ मिलकर,
लंबे जद्दोजहद के बाद,
उस मुर्गे को कैद किया,
फिर नववर्ष पर मुर्ग-मुस्सलम में,
तब्दील हुआ था वह।
क्योंकि था तो,
वह मुर्गा बेचारा,
नववर्ष का मारा।
अब सभी जन,
पूरे नये साल सोते रहो,
क्योंकि जगाने वाला तो,
गया काम से ।
क्योंकि आज के युग में,
जिसने भी दूनियां को,
जगाने का काम किया है,
उसका यही हाल हुआ है।

(सच्ची घटना पर आधारित)

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ०१ /०१/ २०२२
कृष्ण पक्ष, त्रयोदशी , शनिवार
विक्रम संवत २०७८
मोबाइल न. – 8757227201

Language: Hindi
Tag: कविता
9 Likes · 4 Comments · 649 Views
You may also like:
श्याम नाम
लक्ष्मी सिंह
यह यादें
Anamika Singh
पहला प्यार
Dr. Meenakshi Sharma
मेरे पापा।
Taj Mohammad
राह जो तकने लगे हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
जालिम कोरोना
Dr Meenu Poonia
जीवन की सोच/JIVAN Ki SOCH
Shivraj Anand
महब्बत का यारो, यही है फ़साना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
मानव जीवन में तर्पण का महत्व
Santosh Shrivastava
✍️✍️चुभन✍️✍️
'अशांत' शेखर
बहुत हैं फायदे तुमको बतायेंगे मुहब्बत से।
सत्य कुमार प्रेमी
बीवी हो तो ऐसी... !!
Rakesh Bahanwal
गीता के स्वर (18) संन्यास व त्याग के तत्त्व
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
लल्लेश्वरी कश्मीरी संत कवयित्री - एक परिचय
Shyam Sundar Subramanian
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
ਆਹਟ
विनोद सिल्ला
*खुशी लेकर चली आए सभी के द्वार दीवाली (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
कृष्णा आप ही...
Seema 'Tu hai na'
तेरा नूर
Dr.S.P. Gautam
अन्नदाता किसान
Shekhar Chandra Mitra
सुखद...
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
Hero of your parents 🦸
ASHISH KUMAR SINGH
हरियाली और बंजर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जेष्ठ की दुपहरी
Ram Krishan Rastogi
काम आयेगा तुम्हारे
Dr fauzia Naseem shad
हरित वसुंधरा।
Anil Mishra Prahari
विश्वास मुझ पर अब
gurudeenverma198
खास लम्हें
निकेश कुमार ठाकुर
Loading...