Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#12 Trending Author
Jan 1, 2022 · 2 min read

मुर्गा बेचारा…

मुर्गा बेचारा
~~°~~°~~°
मुर्गा बेचारा,
देशी प्रजाति का,
मस्त और इन्द्रधनुषी रंगों से सराबोर,
ऊपर में बदलाव का लाल टोपी पहने हुए,
सबके दिलों का प्यारा,
सुबह-सुबह बांग देने में,
कोई कसर नहीं रखता।
उठो मुसाफिर, जगो मुसाफिर के,
अंतर्नाद से,
सभी जनों को चौकन्ना रखता।
मनुष्य की हर गतिविधि को,
बारीकी से परखता।
लेकिन नववर्ष की पूर्व बेला में,
कुछ दिन पूर्व से ही,
अजीब हरकतें करने लगा था वह,
शायद नववर्ष की तैयारी के लिए,
होने वाले चहलकदमियों से,
आशंकित था वो,
अब वह दाना डालने पर भी,
आंगन में नहीं आता,
सुबह की कुकड़ू-कु की आवाज से भी,
लोगों को नहीं जगाता।
सुबह-सुबह बांग देता भी क्यों भला,
अब उसे इंसानों के प्रति,
दास्ताँ-ए-मोहब्बत जुबां पर,
आ ही नहीं रही थी ।
दिन भर और रात को भी,
आंगन किनारे,
अमरूद की पेड़ पर बैठा रहता,
और लोगों द्वारा पीछा करते ही,
उड़कर दूसरे पेड़ पर चला जाता,
वो सहमा था इसलिए कि,
नववर्ष बीत तो जाए,
तो फिर उसके बाद से,
जीवनचर्या को सही कर लूंगा।
लेकिन उसका पालनहार भी,
नववर्ष की खुशी के लिए
उसके नर्म गोस्त से,
अपनी जिह्वा को आनंदित करने के लिए,
सब दाव पेंच आजमा रहा था।
पुराने वर्ष के अंतिम तिथि को,
एक साथ चार जनों ने साथ मिलकर,
लंबे जद्दोजहद के बाद,
उस मुर्गे को कैद किया,
फिर नववर्ष पर मुर्ग-मुस्सलम में,
तब्दील हुआ था वह।
क्योंकि था तो,
वह मुर्गा बेचारा,
नववर्ष का मारा।
अब सभी जन,
पूरे नये साल सोते रहो,
क्योंकि जगाने वाला तो,
गया काम से ।
क्योंकि आज के युग में,
जिसने भी दूनियां को,
जगाने का काम किया है,
उसका यही हाल हुआ है।

(सच्ची घटना पर आधारित)

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ०१ /०१/ २०२२
कृष्ण पक्ष, त्रयोदशी , शनिवार
विक्रम संवत २०७८
मोबाइल न. – 8757227201

9 Likes · 4 Comments · 446 Views
You may also like:
पुस्तक
AMRESH KUMAR VERMA
चाल कुछ ऐसी चल गया कोई।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरी जिन्दगी से।
Taj Mohammad
✍️मैं अपनी रूह के अंदर गया✍️
'अशांत' शेखर
कृष्ण वंदना
लक्ष्मी सिंह
“ माँ गंगा ”
DESH RAJ
" शरारती बूंद "
Dr Meenu Poonia
ख़ुद ही हालात समझने की नज़र देता है,
Aditya Shivpuri
पिता
Vandana Namdev
✍️Be Positive...!✍️
'अशांत' शेखर
✍️खुदाओं के खुदा✍️
'अशांत' शेखर
हे ! धरती गगन केऽ स्वामी...
मनोज कर्ण
प्रतीक्षा के द्वार पर
Saraswati Bajpai
एक दिया अनजान साथी के नाम
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इन्द्रवज्रा छंद (शिवेंद्रवज्रा स्तुति)
बासुदेव अग्रवाल 'नमन'
मुस्कुराएं सदा
Saraswati Bajpai
✍️रहनुमा रहता है✍️
'अशांत' शेखर
नारी है सम्मान।
Taj Mohammad
हम अपने मन की किस अवस्था में हैं
Shivkumar Bilagrami
कुण्डलिया
Dr. Sunita Singh
वक्त की उलझनें
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
वेश्या का दर्द
Anamika Singh
हो दर्दे दिल तो हाले दिल सुनाया भी नहीं जाता।
सत्य कुमार प्रेमी
* साम वेदना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुमने वफा न निभाया
Anamika Singh
*झाँसी की क्षत्राणी । (झाँसी की वीरांगना/वीरनारी)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
✍️इश्क़ और जिंदगी✍️
'अशांत' शेखर
#छंद के लक्षण एवं प्रकार
आर.एस. 'प्रीतम'
नवगीत -
Mahendra Narayan
गर तू होता क़िताब।
Taj Mohammad
Loading...