Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 15, 2016 · 2 min read

मुझे याद हे

मुझे याद हे
जब तुम मेरा हाथ मांगने आये थे I
थोडा घबराये और कितना शरमाये थे I
बाते करने में भी तुम कितना हिचकाये थे
जब में चाय की ट्रे लेकर आई थी
और तुमने गर्म चाय को कापते हाथो से जेसे ही पीना चाहा तुमने सारी चाय अपने उपर गिरा ली थी
तुम शुरू से ही इतने शर्मीले थे I जब कभी भी में तुम से किसी बारे में बात करती तुम बिना किसी बात के तुम हा कर देते थे I
और वो तुम्हारी फ्रेंड किसने तुम्हारा नाम शर्मीली बानो रखा था तुम्हारी कितनी हेल्प करती थी
मुझे याद हे !
तुम क्लास में अव्वल जरुर थे पर बहार एक न. के फटू थे !
और यह भी याद हे जब कोलेज के वो आवारा लड़के मुझे और मेरी फ्रेंड को छेड़ रहे थे ! तुमने अपनी स्मार्टनेस दिखने में उनसे कितनी मार खायी थी ! मुझे याद हे तुम मुझसे प्यार करते थे पर तुममे जाहिर करने की हिम्मत नहीं थी ! मुझे तो यह बात तभी मालूम हो गयी थी जब तुम अपनी पडोसी कॉल्लेज फ्रेंड से मेरे बारे में पूछा करते थे ! मुझे सब याद हे ! तुम्हारा वो होम वर्क अधुरे का बहाना करके अपनी फ्रेंड से मेरी कॉपी लेना , और में पगली इस पल का इंतजार करती ! मुझे कब तुमसे प्यार हो गया मुझे कुछ पता नहीं चला ! खेर प्यार ऐसे ही होता हे !
मुझे बस ये बात नहीं पता थी की तुम्हे लिखना पसंद हे तुम अपने फ्री टाइम में कुछ ग़ज़ल कुछ गीत लिखते थे
यह बात तो मुझे तब पता चली जब कॉलेज केम्पस में तुमने अपनी लिखी एक कविता सुनाई थी ! सुनाई नहीं सुनानी पड़ी जी हां जब कॉलेज प्रोग्राम में अन्क्रिंग तुम्हारी फ्रेंड ने की थी और एक सभी फ्रेंड के कहने पर तुम्हारी बिना इजाजत के तुम्हरा नाम अलोउंस कर दिया था !
तुम कितने शर्मा रहे थे फिर तुमने अपने आप को संभालते हुए एक गीत की कुछ लाइने कही थी
तुम जेसी हो वेसी ही रहना
ये दुनिया रंग बदलू हे पर पर तुम कभी न बदलना !
तुम मुझमें हो और में तुझमे
तुम हमेश ऐसे ही मुस्कुराते रहना मुस्कुराते रहना !
…………………………….!
BY (प्रतीक जांगिड )15-11-2016

179 Views
You may also like:
वापस लौट नहीं आना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कभी सोचा ना था मैंने मोहब्बत में ये मंजर भी...
Krishan Singh
✍️✍️हिमाक़त✍️✍️
"अशांत" शेखर
प्यार भरे गीत
Dr.sima
आखिरी कोशिश
AMRESH KUMAR VERMA
💐प्रेम की राह पर-24💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं उनको शीश झुकाता हूँ
Dheerendra Panchal
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग २]
Anamika Singh
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
रिश्तों में बढ रही है दुरियाँ
Anamika Singh
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
मुझे धोखेबाज न बनाना।
Anamika Singh
" इच्छापूर्ति अक्टूबर "
Dr Meenu Poonia
💐प्रेम की राह पर-28💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
अच्छा किया तुमने।
Taj Mohammad
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
सुबह - सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
कुछ ख़ास करते है।
Taj Mohammad
ईश्वर का खेल
Anamika Singh
काबुल का दंश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मेरे गाँव का अश्वमेध!
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
थियोसॉफी की कुंजिका (द की टू थियोस्फी)* *लेखिका : एच.पी....
Ravi Prakash
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
रोग ने कितना अकेला कर दिया
Dr Archana Gupta
गधा
Buddha Prakash
" पवित्र रिश्ता "
Dr Meenu Poonia
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...