Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2023 · 1 min read

💐प्रेम कौतुक-486💐

मुझे मेरे इश्क़ का शुक्राना बे-एतिबार से मिला,
दिमाग़ से पैदल हो,इलाज़ का मसवरा शान से मिला,
कोई बात नहीं है,इसमें भी हमने मोहब्बत तलासी,
हम भी कहेंगे,यह महबूब हमें इत्तेफाक़ से मिला।

©®अभिषेक: पाराशरः “आनन्द”

Language: Hindi
32 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
क्यों छोड़ गए तन्हा
क्यों छोड़ गए तन्हा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मासूम पल
मासूम पल
Dr. Rajiv
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
लोग आते हैं दिल के अंदर मसीहा बनकर
लोग आते हैं दिल के अंदर मसीहा बनकर
कवि दीपक बवेजा
मेरा फलसफा
मेरा फलसफा
umesh mehra
संत एकनाथ महाराज
संत एकनाथ महाराज
Pravesh Shinde
जाति जनगणना
जाति जनगणना
मनोज कर्ण
शृंगार
शृंगार
Kamal Deependra Singh
मेरे होते हुए जब गैर से वो बात करती हैं।
मेरे होते हुए जब गैर से वो बात करती हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
ग़ज़ल
विमला महरिया मौज
आश भरी ऑखें
आश भरी ऑखें
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
वो घर घर नहीं होते जहां दीवार-ओ-दर नहीं होती,
वो घर घर नहीं होते जहां दीवार-ओ-दर नहीं होती,
डी. के. निवातिया
'I love the town, where I grew..'
'I love the town, where I grew..'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
भोली बाला
भोली बाला
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बुद्धिमान हर बात पर, पूछें कई सवाल
बुद्धिमान हर बात पर, पूछें कई सवाल
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रूठी बीवी को मनाने चले हो
रूठी बीवी को मनाने चले हो
Prem Farrukhabadi
गीत
गीत
Shiva Awasthi
प्यार
प्यार
Satish Srijan
"कहाँ नहीं है राख?"
Dr. Kishan tandon kranti
💐प्रेम कौतुक-331💐
💐प्रेम कौतुक-331💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
"इससे पहले कि बाय हो जाए।
*Author प्रणय प्रभात*
सोच का अपना दायरा देखो
सोच का अपना दायरा देखो
Dr fauzia Naseem shad
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
सद् गणतंत्र सु दिवस मनाएं
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बच्चे बोले दो दिवस, खेलेंगे हम रंग
बच्चे बोले दो दिवस, खेलेंगे हम रंग
Ravi Prakash
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
सिलवटें आखों की कहती सो नहीं पाए हैं आप ।
Prabhu Nath Chaturvedi
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
तब याद तुम्हारी आती है (गीत)
संतोष तनहा
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Kash hum marj ki dava ban sakte,
Kash hum marj ki dava ban sakte,
Sakshi Tripathi
दिखा तू अपना जलवा
दिखा तू अपना जलवा
gurudeenverma198
Loading...