Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 6, 2022 · 1 min read

मुझे मेरी हदों में रहने दो

मुझे मेरी हदों में रहने दो
उस परिधि से बाहर निकली तो
मैं बिखर जाऊंगी
बिखर जाऊंगी तो
मैं निखर जाऊंगी
निखर जाऊंगी तो
मैं खिल जाऊंगी
खिल जाऊंगी तो मैं
किसी के दिल से मिल जाऊंगी
मिल जाऊंगी तो
उसके रंग में घुल जाऊंगी
घुल जाऊंगी तो
मैं अपने अस्तित्व का दामन
छोड़ते हुए
पूरी तौर से बदल जाऊंगी
बदल जाऊंगी तो
मैं मैं न रहूंगी
इसीलिये मैं यह बात
बार-बार कहती हूं और दोहराती हूं कि
मुझे मेरी हदों में रहने दो
मैं जैसी हूं
मुझे वैसा ही रहने दो
मुझे बदलने की कोशिश मत करो
मैं अपनी मौज में बहता
एक दरिया हूं
मुझे मेरे रास्ते पर बहने दो
उसे काटकर एक नया रास्ता
बनाने की कोशिश मत करो
मेरा रास्ता मत बदलो
मुझे मेरी यात्रा से भटकाने का
प्रयास कदापि मत करो।

मीनल
सुपुत्री श्री प्रमोद कुमार
इंडियन डाईकास्टिंग इंडस्ट्रीज
सासनी गेट, आगरा रोड
अलीगढ़ (उ.प्र.) – 202001

37 Views
You may also like:
"मैं पाकिस्तान में भारत का जासूस था" किताबवाले महान जासूस...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मुस्कुराना कहा आसान है
Anamika Singh
धर्म में पंडे, राजनीति में गुंडे जनता को भरमावें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हमारा घर छोडकर जाना
Dalveer Singh
जब मर्यादा टूटता है।
Anamika Singh
*माँ छिन्नमस्तिका 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
When I missed you.
Taj Mohammad
जयति जयति जय , जय जगदम्बे
Shivkumar Bilagrami
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
लुटेरों का सरदार
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बुढ़ापे में अभी भी मजे लेता हूं
Ram Krishan Rastogi
" सामोद वीर हनुमान जी "
Dr Meenu Poonia
मेरे जैसा ये कौन है
Dr fauzia Naseem shad
शर्म-ओ-हया
Alpa
एक दूजे के लिए हम ही सहारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
चिड़ियाँ
Anamika Singh
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
वेवफा प्यार
Anamika Singh
भाइयों के बीच प्रेम, प्रतिस्पर्धा और औपचारिकताऐं
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
गम तारी है।
Taj Mohammad
✍️बहन भाई की सलामती चाहती है✍️
'अशांत' शेखर
नींद खो दी
Dr fauzia Naseem shad
है रौशन बड़ी।
Taj Mohammad
धारणाएँ टूट कर बिखर जाती हैं।
Manisha Manjari
जाने क्यों वो सहमी सी ?
Saraswati Bajpai
कान्हा तुमको सौ-सौ बार बधाई (भक्ति गीत)
Ravi Prakash
Loading...