Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Aug 2016 · 1 min read

मुझे मालूम होता …

मुझे मालूम गर होता बसर का।।
कभी रुख भी नहीं करता शहर का।।
मुझे हाँ कर या बिलकुल ही मना कर;
ये क्या मतलब अगर का औ मगर का।
हमारे खेत रस्ता देखते हैं,
कहाँ पानी गया उनकी नहर का।।
कभी पानी कभी रोटी के लाले,
बड़ा मुश्किल हुआ जीना बशर का।।
बदलती ही नहीं तासीर उसकी
मिजाज़ ऐसा ही होता है ज़हर का।।
मुहब्बत लाख हो रूकती नहीं है,
यही अंदाज़ होता है लहर का।।
जी लूँगा ज़िन्दगी मुश्किल पलों में,
सफ़र में साथ गर है हमसफ़र का।।

…..सुदेश कुमार मेहर

192 Views
You may also like:
आत्मज्ञान
Shyam Sundar Subramanian
फोन
Kanchan Khanna
श्री राम ने
Vishnu Prasad 'panchotiya'
इस ज़िंदगी ने हमको
Dr fauzia Naseem shad
आप तो आप ही हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Book of the day- कुछ ख़त मोहब्बत के (गीत ग़ज़ल...
Sahityapedia
*बोलिए जय हो हिंदी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कहो अब और क्या चाहें
VINOD KUMAR CHAUHAN
कंकाल
Harshvardhan "आवारा"
तू एक बार लडका बनकर देख
Abhishek Upadhyay
【30】*!* गैया मैया कृष्ण कन्हैया *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कवि के उर में जब भाव भरे
लक्ष्मी सिंह
हम भारतीय हैं..।
Buddha Prakash
गवाह है
shabina. Naaz
✍️पेड़ की आत्मकथा✍️
'अशांत' शेखर
$तीन घनाक्षरी
आर.एस. 'प्रीतम'
शासन वही करता है
gurudeenverma198
"शिवाजी और उनके द्वारा किए समाज सुधार के कार्य"
Pravesh Shinde
दर्शय चला
Yash Tanha Shayar Hu
पूर्व दिशा से सूरज रोज निकलते हो
Dr Archana Gupta
तिरंगा चूमता नभ को...
अश्क चिरैयाकोटी
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
हो पाए अगर मुमकिन
Shivkumar Bilagrami
"सृष्टि की श्रृंखला"
Dr Meenu Poonia
ज्ञान की खिड़कियां
Shekhar Chandra Mitra
अदीब लगता नही है कोई।
Taj Mohammad
चम्पा पुष्प से भ्रमर क्यों दूर रहता है
Subhash Singhai
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सिर्फ तुम
Seema 'Tu hai na'
दाने दाने पर नाम लिखा है
Ram Krishan Rastogi
Loading...