Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Sep 2016 · 3 min read

मुझे तो कुत्ता ही बनाना

सुबह की सैर भी कमाल की होती है। सब ओर खुशनुमा सा वातावरण। सूरज की तलाश मे निकलता सवेरा सूरज की किरणों को अपनी बाँहों मे लेने को आतुर सा। अंगड़ाई सी लेते अभी अभी सोकर उठें पेङ ,पौधे ,फूल पत्ते । चहचहाते पक्षी और कोयल की कुहू कुहू का मधुर स्वर। कहीं मंदिर से आती घंटों की आवाज। मंद मंद चलती उन्मुक्त पवन। ये सब जैसे मन में नई स्फूर्ति और चेतना का प्रवाह कर देते है।
रोज मैं नये नये अनुभव लेते हुए इन सब का आनन्द उठाती हूँ। बहुत लोगों से भी मिलना होता है। कोई दौड़ लगा रहा होता है , कोई कानोँ मे ईयरफोनलगाये हुए अपनी ही धुन मे चला जा रहा होता है। कुछ समूह में राजनीतिक वार्तालाप करते हुए होते है, लेडीज घर गृहस्थी की बाते करते हुए, कुछ औरोँ की बगिया से चुपके से पुष्प तोड़ते हुए ,तो लड़के सलमान खान बनने की धुन मे व्यायाम करते हुए। मुझे बड़ा ही मज़ा आता है ये सब देखने मे।।मैं सैर करती रहती हूँ और मेरे साथ साथ चलते हैं अनगिनत विचार। कभी २ ऐसे विचार भी होतें हैं कि खुद ही मन ही मन मुस्कुरा उठतीं हुँ और कभी यही विचार कुछ सोचने के लिये भी मज़बूर कर देते हैं। एक ऐसी ही घटना और विचार से आपको वाकिफ कराना चाहतीं हूँ ।
कुछ लोग अपने लाड़ प्यार से पाले कुत्तों को भी साथ लेकर घूमते हैँ। जब उन कुत्तों को देखती हूँ तो लगता है ये भी कुछ हमारी तरह ही सोचते हैं और आपस में बातें करते हैं। जब अपने मालिक के साथ गर्व से चलता हुआ जंज़ीर से बंधा नवाबी कुत्ता जब सड़क के आवारा कुत्तों से मिलता है तो उसकी आँखों मे मनुष्य की भांति ही गर्व सा दिखता है जैसे हुं, तुम कहाँ हम कहाँ। और बेचारा सड़क का कुत्ता भी उसे यूँ देखता है मानो कह रहा हो, क्या किस्मत पाई है इसने क्या ठाट है इसके क़ाश हमारे भी कर्म बढ़िया होते तो हम भी ऐसे हीं आलिशान बंगलें मे पल रहे होते ।अक्सर ये कुत्ते इकट्ठे होकर किसी नवाबी कुत्ते को देखकर उस पर सम्मिलित स्वर मेँ भोंकना शुरु कर देते हैं मानो अपना फ़्रस्टेशन निकाल रहे हों कि बड़ा आया नवाब कहीं का। फिर तो उसे बचाने में मालिक के भी पसीने छूट जाते हैं। कभी कभी नवाबी कुत्ता उन कुत्तों से खेलना भी चाहता है पर मालिक की डांट खाकर हट जाता है मानो समझ गया हो कि अपने स्तर के लोगों मे उठो बैठो।
कल एक ७-८ साल के बच्चे को कूड़े के ढ़ेर पर बैठें देखा। कुछ बीन रहा था शायद भूखा भी था क्योकि उसमेँ से कुछ बीन बीन कर खा भी रहा था। तभी एक नवाबी कुत्ता भी वहां आकर कुछ सूंघने लगा। मालिक ने कस कर डांटा नो बेबी ये गन्दा है चलो यहॉँ से और जेब से उसे स्पेशल बिस्कुट उसको खिला दिये। कुत्ता तो चला गया वहां से पर वो बच्चा सूनी सूनी आँखों से देखता रहा उसे जाते हुए ,मानो कह रहा हो नहीं चाहिए ये मनुष्य योनि मुझे तो कुत्ता ही बनाना ऐसा वाला। फिर लग गया वो बीनकर कुछ खाने मे………

डॉ अर्चना गुप्ता

Language: Hindi
Tag: लेख
1 Like · 4 Comments · 444 Views
You may also like:
बंदिशे तमाम मेरे हक़ में ...........
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
बस तेरे लिए है
bhandari lokesh
संघर्ष
Anamika Singh
"मातल "
DrLakshman Jha Parimal
غزل - دینے والے نے ہمیں درد بھائی کم نہ...
Shivkumar Bilagrami
पैरासाइट
Shekhar Chandra Mitra
शहीद रामचन्द्र विद्यार्थी
Jatashankar Prajapati
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रामभक्त शिव (108 दोहा छन्द)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मंज़िल
Ray's Gupta
जब से देखा है तुमको
Ram Krishan Rastogi
जिसे पाया नहीं मैंने
Dr fauzia Naseem shad
मानवता के डगर पर
Shivraj Anand
" विचित्र उत्सव "
Dr Meenu Poonia
तुम निष्ठुर भूल गये हम को, अब कौन विधा यह...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आईना_रब का
मनोज कर्ण
भीगे भीगे मौसम में
कवि दीपक बवेजा
राजनीति ओछी है लोकतंत्र आहत हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
🙏देवी चंद्रघंटा🙏
पंकज कुमार कर्ण
छोटे गाँव का लड़का था मैं
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
अजी मोहब्बत है।
Taj Mohammad
✍️✍️पुन्हा..!✍️✍️
'अशांत' शेखर
दुल्हों का बाजार
मृत्युंजय कुमार
कलम ये हुस्न गजल में उतार देता है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
डगर-डगर नफ़रत
Dr. Sunita Singh
चौंक पड़ती हैं सदियाॅं..
Rashmi Sanjay
# जिंदगी ......
Chinta netam " मन "
*समझो एक सराय (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...