Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 7, 2022 · 1 min read

मुझे तुम भूल सकते हो

मुझे तुम भूल सकते हो
मुझे लिख कर
कहीं रख दो
छुपा कर
सबकी नजरों से
मेरी चाहत
कहीं रख दो
कोई इल्ज़ाम
तुझ पर हो
मुझे मंज़ूर
कब होगा
मेरी आंखों में
दिखते हो
मेरी आंखें
कहीं रख दो ।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

7 Likes · 1 Comment · 56 Views
You may also like:
✍️एक कन्हैयालाल✍️
'अशांत' शेखर
भगवान श्री परशुराम जयंती
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नभ के दोनों छोर निलय में –नवगीत
रकमिश सुल्तानपुरी
भूल कैसे हमें
Dr fauzia Naseem shad
बचपन पुराना रे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हरा जगत में फैलता, सिमटे केसर रंग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तेरा चलना ओए ओए ओए
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
Even If I Ever Died
Manisha Manjari
तुम्हें सुकूँ सा मिले।
Taj Mohammad
जूतों की मन की व्यथा
Ram Krishan Rastogi
चेहरे पर चेहरे लगा लो।
Taj Mohammad
🌺प्रेम की राह पर-52🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मेरे गाँव में होने लगा है शामिल थोड़ा शहर [प्रथम...
AJAY AMITABH SUMAN
पहले दिन स्कूल (बाल कविता)
Ravi Prakash
अजब कहानी है।
Taj Mohammad
सही मार्ग अपनाएँ
Anamika Singh
सावन के काले बादल औ'र बदलियां ग़ज़ल में।
सत्य कुमार प्रेमी
अटल विश्वास दो
Saraswati Bajpai
पुस्तक समीक्षा
Rashmi Sanjay
आदतें
AMRESH KUMAR VERMA
माई थपकत सुतावत रहे राति भर।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*सभी को चाँद है प्यारा ( मुक्तक)*
Ravi Prakash
परी
Alok Saxena
दुर्घटना का दंश
DESH RAJ
लोभ का जमाना
AMRESH KUMAR VERMA
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
'हरि नाम सुमर' (डमरू घनाक्षरी)
Godambari Negi
बेटी की मायका यात्रा
Ashwani Kumar Jaiswal
अश्रुपात्र ... A glass of tears भाग - 5
Dr. Meenakshi Sharma
Loading...