Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

मुझसे बिछड़ के आप ज़रा ग़मज़दा न थे

पलकों पे अश्क लब पे भी हर्फ़-ए-दुआ न थे
मुझसे बिछड़ के आप ज़रा ग़मज़दा न थे

मेरी तरह से टूट के बिखरे तो थे मगर
मेरी तरह सिमट के भी सिमटे ज़रा न थे

बेसूद था लिपटना भी दामन से आपके
जब आँख में हम आपकी आंसू नुमा न थे

मैने कभी सफ़र वो गवारा नहीं किया
जिन रास्तों में फूल थे काँटे ज़रा न थे

उसने ये कह के आज मेरे ख़त जला दिये
दिलसोज़ तो बहुत थे मगर ख़ुशनुमा न थे

1 Like · 4 Comments · 429 Views
You may also like:
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
देश के नौजवानों
Anamika Singh
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️कश्मकश भरी ज़िंदगी ✍️
Vaishnavi Gupta
.✍️वो थे इसीलिये हम है...✍️
'अशांत' शेखर
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
सुन्दर घर
Buddha Prakash
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
प्यार
Anamika Singh
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
अपनी नज़र में खुद अच्छा
Dr fauzia Naseem shad
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
मेरे साथी!
Anamika Singh
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता
लक्ष्मी सिंह
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
Security Guard
Buddha Prakash
Loading...