Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#26 Trending Author
Jul 5, 2022 · 1 min read

मुझको मालूम नहीं

मुझको मालूम नहीं , मेरा परिवार कैसा है।
खबर पूरी है लेकिन, तेरा संसार कैसा है।।
मुझको मालूम नहीं—————–।।

वक़्त मिलता है कभी तो, उनको याद कर लेता हूँ।
क्या देखूँ और किसी को, तेरा चेहरा ही ऐसा है।।
मुझको मालूम नहीं ———————।।

कभी होता हूँ परेशान, उनका दर्द मैं सुनकर।
बहाता हूँ बहुत आँसू , तेरा यह प्यार कैसा है।।
मुझको मालूम नहीं—————–।।

देते हो तुम यह लानत, शहर क्यों छोड़ता नहीं हूँ।
मुझको अब होश कहाँ है, तेरा नशा ही ऐसा है।।
मुझको मालूम नहीं—————–।।

उठाता हूँ कभी कदम, करने को उनसे मुलाकात।
पहुंच जाता हूँ तेरे घर, तेरा रास्ता ही ऐसा है।।
मुझको मालूम नहीं—————–।।

कभी फिर आता है गुस्सा, एक बकवास है तू तो।
गुलाम है तेरा जी आज़ाद, तेरा जादू ही ऐसा है।।
मुझको मालूम नहीं——————।।

शिक्षक एवं साहित्यकार-
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)
मोबाईल नम्बर- 9571070847

53 Views
You may also like:
परिंदे को गम सता रहा है।
Taj Mohammad
बड़ी शिकायत रहती है।
Taj Mohammad
कनिष्ठ रूप में
श्री रमण 'श्रीपद्'
पुरानी यादें
Palak Shreya
मुफ्तखोरी की हुजूर हद हो गई है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
है पर्याप्त पिता का होना
अश्विनी कुमार
गुफ़्तगू का ढंग आना चाहिए
अश्क चिरैयाकोटी
मेरे हाथो में सदा... तेरा हाथ हो..
Dr.Alpa Amin
टूटने न पाये रिश्तों की डोर
Dr fauzia Naseem shad
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
देखो-देखो आया सावन।
लक्ष्मी सिंह
ना झुका किसी के आगे
gurudeenverma198
प्रकृति की नज़ाकत
Dr.Alpa Amin
वो पत्थर
shabina. Naaz
*श्री विष्णु प्रभाकर जी के कर - कमलों द्वारा मेरी...
Ravi Prakash
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
*बहू- बेटी- तलाक* कहानी लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
ठाकरे को ठोकर
Rj Anand Prajapati
श्री हनुमत् ललिताष्टकम्
Shivkumar Bilagrami
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग६]
Anamika Singh
'नर्क के द्वार' (कृपाण घनाक्षरी)
Godambari Negi
कि राज दिल का उसको, कभी बता नहीं सके
gurudeenverma198
तिरंगा मन में कैसे फहराओगे ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
चलो जहाँ की रूसवाईयों से दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
मुस्कुराना कहा आसान है
Anamika Singh
वक्त की चौसर
Saraswati Bajpai
'%पर न जाएं कम % योग्यता का पैमाना नहीं है'
Godambari Negi
मंगलसूत्र
संदीप सागर (चिराग)
दिल मुझसे लगाकर,औरों से लगाया न करो
Ram Krishan Rastogi
वीर विनायक दामोदर सावरकर जिंदाबाद( गीत )
Ravi Prakash
Loading...