Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
May 28, 2016 · 1 min read

लिपियाँ सूखे की

ये जल विहीन धरा की लिपियाँ सूखे की निशानी
कुंभ सिर, हाथ धर चली पीताम्बरी, भरने पानी
तपती दोपहर, गर्मी का कहर , वृक्ष नदी न नहर
खोजे जल रसोई की रानी, ये जीवन कहानी।

259 Views
You may also like:
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
जब गुलशन ही नहीं है तो गुलाब किस काम का...
लवकुश यादव "अज़ल"
संकुचित हूं स्वयं में
Dr fauzia Naseem shad
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
आओ तुम
sangeeta beniwal
पिता
Manisha Manjari
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
पिता
Santoshi devi
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
✍️जिंदगानी ✍️
Vaishnavi Gupta
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
मन
शेख़ जाफ़र खान
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
ग़रीब की दिवाली!
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इश्क करते रहिए
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...