Sep 24, 2016 · 1 min read

मुक्तक

नज़र जिधर घुमाओ, उधर रिश्ते है, गोत्रजन है
रिश्ते बनाना आसान, उसे निभाना कठिन है
रिश्ते में घोलो प्यार और विश्वास का मिठास
फिर देखो, रिश्ते निभाना कितना आसान है |
***

बोलने से पहले धैर्य से सुनना चाहिए
दूसरों के दृष्टिकोण को समझना चाहिए
विचार विनिमय से दूरी कम हो जायगी
अखंड कुटुंब के लिए प्रेम सीखना चाहिए |

© कालीपद ‘प्रसाद’

142 Views
You may also like:
देखो! पप्पू पास हो गया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अब तो इतवार भी
Krishan Singh
तुम्हारी चाय की प्याली / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
पापा
सेजल गोस्वामी
💐प्रेम की राह पर-25💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अरदास
Buddha Prakash
घर
पंकज कुमार "कर्ण"
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
*मेरे देश का सैनिक*
Prabhudayal Raniwal
मेरी लेखनी
Anamika Singh
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
साहब का कुत्ता (हास्य व्यंग्य कहानी)
दुष्यन्त 'बाबा'
इन्तज़ार का दर्द
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
【29】!!*!! करवाचौथ !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
सच का सामना
Shyam Sundar Subramanian
सद्आत्मा शिवाला
Pt. Brajesh Kumar Nayak
💐प्रेम की राह पर-24💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीने की चाहत है सीने में
Krishan Singh
【31】*!* तूफानों से क्यों झुकना *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
पापा वो बचपन के
Khushboo Khatoon
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
मृत्यु के बाद भी मिर्ज़ा ग़ालिब लोकप्रिय हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अब तो दर्शन दे दो गिरधर...
Dr. Alpa H.
सेमर
विकास वशिष्ठ *विक्की
इंतजार मत करना
Rakesh Pathak Kathara
Loading...