Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 25, 2016 · 1 min read

मुक्तक

लगा दे घाव पर मरहम , दिवाना आज है कोई
कसकते लब हँसी ला दे , तराना साज है कोई
गुमशुदा हो भटकते जो , फिरे आतंक के तम में
जुदा रूहें मिला दे पल , बता वह राज है कोई

173 Views
You may also like:
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
💐प्रेम की राह पर-57💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खूबसूरत एहसास.......
Dr. Alpa H. Amin
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
रात चांदनी का महताब लगता है।
Taj Mohammad
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
छोटी-छोटी चींटियांँ
Buddha Prakash
गंगा से है प्रेमभाव गर
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता हैं नाथ.....
Dr. Alpa H. Amin
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
*आचार्य बृहस्पति और उनका काव्य*
Ravi Prakash
मेरे पापा जैसे कोई नहीं.......... है न खुदा
Nitu Sah
जिंदगी में जो उजाले दे सितारा न दिखा।
सत्य कुमार प्रेमी
जो मौका रहनुमाई का मिला है
Anis Shah
जीवन जीत हैं।
Dr.sima
" कोरोना "
Dr Meenu Poonia
पिता
Madhu Sethi
आखरी उत्तराधिकारी
Prabhudayal Raniwal
चेतना के उच्च तरंग लहराओं रे सॉवरियाँ
Dr.sima
राम नवमी
Ram Krishan Rastogi
दिनांक 10 जून 2019 से 19 जून 2019 तक अग्रवाल...
Ravi Prakash
"पिता और शौर्य"
Lohit Tamta
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
मेरी बेटी
Anamika Singh
GOD YOU are merciful.
Taj Mohammad
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
कर्म
Rakesh Pathak Kathara
पैसों का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...