Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jul 2016 · 1 min read

मुक्तक

लगा दे घाव पर मरहम , दिवाना आज है कोई
कसकते लब हँसी ला दे , तराना साज है कोई
गुमशुदा हो भटकते जो , फिरे आतंक के तम में
जुदा रूहें मिला दे पल , बता वह राज है कोई

Language: Hindi
Tag: कविता
324 Views
You may also like:
कितना मुश्किल है पिता होना
Ashish Kumar
गीत -
Mahendra Narayan
मैं कही रो ना दूँ
Swami Ganganiya
💐अस्माकं प्रापणीयं तत्व: .....….....💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Writing Challenge- आरंभ (Beginning)
Sahityapedia
बनारस की गलियों की शाम हो तुम।
Gouri tiwari
मुझे फ़िक्र है तुम्हारी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Shankar J aanjna
हिंदी हमारी राष्ट्रीय भाषा
RAFI ARUN GAUTAM
:::::::::खारे आँसू:::::::::
MSW Sunil SainiCENA
दो दिन का प्यार था छोरी , दो दिन में...
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
छल प्रपंच का जाल
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
✍️यहाँ सब अदम है...
'अशांत' शेखर
विश्वास
Harshvardhan "आवारा"
जिंदगी तुमसे जीना सीखा
Abhishek Pandey Abhi
मीरा के घुंघरू
Shekhar Chandra Mitra
धर्म
विजय कुमार 'विजय'
*सर्वोत्तम शाकाहार है (गीत)*
Ravi Prakash
योग क्या है और इसकी महत्ता
Ram Krishan Rastogi
मंजिले जुस्तजू
Vikas Sharma'Shivaaya'
बंधन बाधा हर हरो
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
मुखौटा
संदीप सागर (चिराग)
ऐसी सोच क्यों ?
Deepak Kohli
"लोग क्या कहेंगे?"
Pravesh Shinde
'हाथी ' बच्चों का साथी
Buddha Prakash
आजकल इश्क नही 21को शादी है
Anurag pandey
हृद् कामना ....
डॉ.सीमा अग्रवाल
काश उसने तुझे चिड़ियों जैसा पाला होता।
Manisha Manjari
इश्क का गम।
Taj Mohammad
परशुराम कर्ण संवाद
Utsav Kumar Aarya
Loading...