Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 19, 2016 · 1 min read

मुक्तक

आज गुरु पूर्णिमा है

दुर्दिनों के दौर में कमाल होगया ।

रज चरण चूम ली वो मालामाल होगया ।

भव पार उतरना है तो चरणों में आइये

जो आगया शरण में वो निहाल हो गया ।

अनिल उपहार

216 Views
You may also like:
गनर यज्ञ (हास्य-व्यंग)
दुष्यन्त 'बाबा'
✍️तर्क✍️
"अशांत" शेखर
【9】 *!* सुबह हुई अब बिस्तर छोडो *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
बारिश हमसे रूढ़ गई
Dr. Alpa H. Amin
बनकर कोयल काग
Jatashankar Prajapati
गीत - याद तुम्हारी
Mahendra Narayan
आप तो आप ही हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कभी मिट्टी पर लिखा था तेरा नाम
Krishan Singh
*जो हुकुम सरकार (गीतिका)*
Ravi Prakash
हर रोज योग करो
Krishan Singh
The Send-Off Moments
Manisha Manjari
तल्खिय़ां
Anoop Sonsi
कबीरा...
Sapna K S
निभाता चला गया
वीर कुमार जैन 'अकेला'
चलना ही पड़ेगा
Mahendra Narayan
तुम हो फरेब ए दिल।
Taj Mohammad
""वक्त ""
Ray's Gupta
मै पैसा हूं दोस्तो मेरे रूप बने है अनेक
Ram Krishan Rastogi
भगवान हमारे पापा हैं
Lucky Rajesh
हमको आजमानें की।
Taj Mohammad
रास रचिय्या श्रीधर गोपाला।
Taj Mohammad
कल्पना
Anamika Singh
पिता का मर्तबा।
Taj Mohammad
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
तेरी नजरों में।
Taj Mohammad
बेकार ही रंग लिए।
Taj Mohammad
मूक हुई स्वर कोकिला
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मातम और सोग है...!
"अशांत" शेखर
Loading...