Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 7, 2016 · 1 min read

** नव मुक्तक **

***** मुक्तक *****
हम धर्म के मर्म को जानें, नफरत की पीडा को जानेंं,
गीता बाइबिल कुरान ग्रन्थ की, आत्मा को भी हम जानें,
मानवता पर जो थूक रहे, उन आतंकी को खाक करें,
ऐसा दर्द लिखो मस्तक पर, वो दुख का मतलब भी जानें,
******* सुरेशपाल वर्मा जसाला

429 Views
You may also like:
प्रकृति का उपहार
Anamika Singh
मैं अश्क हूं।
Taj Mohammad
मां सरस्वती
AMRESH KUMAR VERMA
“NEW ABORTION LAW IN AMERICA SNATCHES THE RIGHT OF WOMEN”
DrLakshman Jha Parimal
अभी तुम करलो मनमानियां।
Taj Mohammad
बेड़ियाँ
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तुम्हारे जन्मदिन पर
अंजनीत निज्जर
जंत्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रेशमी रुमाल पर विवाह गीत (सेहरा) छपा था*
Ravi Prakash
दिल तड़फ रहा हैं तुमसे बात करने को
Krishan Singh
वो मेरा हो नहीं सकता
dks.lhp
वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
【1】*!* भेद न कर बेटा - बेटी मैं *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
ऐतबार नहीं करना!
Mahesh Ojha
✍️झूठ और सच✍️
"अशांत" शेखर
कैलाश मानसरोवर यात्रा (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
दूध होता है लाजवाब
Buddha Prakash
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हिंदी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
विचलित मन
AMRESH KUMAR VERMA
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
जो... तुम मुझ संग प्रीत करों...
Dr. Alpa H. Amin
एक असमंजस प्रेम...
Sapna K S
यूं रूबरू आओगे।
Taj Mohammad
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
दीपावली
Dr Meenu Poonia
# उम्मीद की किरण #
Dr. Alpa H. Amin
【31】*!* तूफानों से क्यों झुकना *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...