Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 20, 2017 · 1 min read

मुक्तक

तेरा कबतलक मैं इंतजार करता रहूँ?
तेरी वफा पर मैं ऐतबार करता रहूँ?
दफ़न हो गयी है अंधेरों में जिन्दगी,
दर्दे-जुदाई में तुमसे प्यार करता रहूँ?

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

152 Views
You may also like:
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
इज़हार-ए-इश्क 2
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
पिता
Saraswati Bajpai
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
रुक-रुक बरस रहे मतवारे / (सावन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे पापा
Anamika Singh
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
Loading...