Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 15, 2017 · 1 min read

मुक्तक

तेरे बगैर जिन्दगी बेजान सी रहती है!
तेरी बेवफाई से हैरान सी रहती है!
मेरी राह थक गयी है अब तो इंतजार की,
तेरी चाहत दिल में परेशान सी रहती है!

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

127 Views
You may also like:
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
माँ तुम अनोखी हो
Anamika Singh
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
माँ की भोर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
गुमनाम ही सही....
DEVSHREE PAREEK 'ARPITA'
अनमोल राजू
Anamika Singh
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
Abhishek Pandey Abhi
पिता
Neha Sharma
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
अच्छा आहार, अच्छा स्वास्थ्य
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
दुनिया की आदतों में
Dr fauzia Naseem shad
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
Loading...