Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 11, 2017 · 1 min read

मुक्तक

तेरे बिना मेरी जिन्दगी कटेगी कैसे?
तेरे बिना मेरी तिश्नगी मिटेगी कैसे?
तेरी बेपनाह चाहत है आज भी दिल में,
तेरी आरजू इरादों से हटेगी कैसे?

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

215 Views
You may also like:
छलकता है जिसका दर्द
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
बंदर भैया
Buddha Prakash
पिता
Mamta Rani
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
सच और झूठ
श्री रमण 'श्रीपद्'
माँ की याद
Meenakshi Nagar
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
गीत
शेख़ जाफ़र खान
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
परखने पर मिलेगी खामियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आस
लक्ष्मी सिंह
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
Loading...