Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 10, 2017 · 1 min read

मुक्तक

तेरा ख्याल क्यों मुझको आता ही रहता है?
तेरा ख्याल मुझको तरसाता ही रहता है!
तेरी याद जुड़ गयी है साँसों की डोर से,
तेरा प्यार मुझको तड़पाता ही रहता है!

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

161 Views
You may also like:
कुछ पल का है तमाशा
Dr fauzia Naseem shad
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
बुध्द गीत
Buddha Prakash
कुछ और तो नहीं
Dr fauzia Naseem shad
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
पहाड़ों की रानी शिमला
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
पिता
Kanchan Khanna
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
अब भी श्रम करती है वृद्धा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता
Buddha Prakash
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कशमकश
Anamika Singh
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
Loading...