Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2016 · 1 min read

वृक्ष

आनन फानन में मैं चली गई इक कानन में
दृश्य सुन्दर, पवन संगीत बजा इन कानन में
कटते रहे यदि वृक्ष तो क्या होगा इस जीवन का
न वन्यजीवन, न वनस्पतियाँ, गहन विषय मनन में।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
270 Views
You may also like:
ऐ जाने वफ़ा मेरी हम तुझपे ही मरते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
'एक सयानी बिटिया'
Godambari Negi
एक गंभीर समस्या भ्रष्टाचारी काव्य
AMRESH KUMAR VERMA
अज़ल से प्यार करना इतना आसान है क्या /लवकुश यादव...
लवकुश यादव "अज़ल"
मजदूर बिना विकास असंभव ..( मजदूर दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
आओ और सराहा जाये
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
जिसके सीने में जिगर होता है।
Taj Mohammad
*"खुद को तलाशिये"*
Shashi kala vyas
💐अस्माकं प्रापणीयं तत्व: .....….....💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
फिर तुम उड़ न पाओगे
Anamika Singh
ज़िन्दगी
akmotivation6418
!! सुंदर वसंत !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
गुमनामी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
खुद से प्यार
लक्ष्मी सिंह
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
फिर भी तुम्हारे लिए
gurudeenverma198
इश्क की तपिश
Seema 'Tu hai na'
जय भीम का मतलब
Shekhar Chandra Mitra
Even If I Ever Died
Manisha Manjari
नकारात्मक मानसिकता
Dr fauzia Naseem shad
सुन ओ बारिश कुछ तो रहम कर
Surya Barman
इंतजार से बेहतर है कोशिश करना
कवि दीपक बवेजा
जीवन जीत हैं।
Dr.sima
प्रकृति का उपहार- इंद्रधनुष
Shyam Sundar Subramanian
ख्वाब ही जीवन है
Mahendra Rai
*अनन्य हिंदी सेवी स्वर्गीय राजेंद्र मोहन शर्मा श्रंग*
Ravi Prakash
हिन्दी हमारी शान है, हिन्दी हमारा मान है।
Dushyant Kumar
पर्यावरण
विजय कुमार 'विजय'
Loading...