Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 24, 2016 · 1 min read

वृक्ष

आनन फानन में मैं चली गई इक कानन में
दृश्य सुन्दर, पवन संगीत बजा इन कानन में
कटते रहे यदि वृक्ष तो क्या होगा इस जीवन का
न वन्यजीवन, न वनस्पतियाँ, गहन विषय मनन में।

143 Views
You may also like:
पिता
Saraswati Bajpai
हम भी नज़ीर बन जाते।
Taj Mohammad
पैसा
Arjun Chauhan
✍️✍️भोंगे✍️✍️
"अशांत" शेखर
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
खींच तान
Saraswati Bajpai
मजहबे इस्लाम नही सिखाता।
Taj Mohammad
तुमको खुशी मिलती है।
Taj Mohammad
पल
sangeeta beniwal
आज असंवेदनाओं का संसार देखा।
Manisha Manjari
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार "कर्ण"
गम तेरे थे।
Taj Mohammad
शिखर छुऊंगा एक दिन
AMRESH KUMAR VERMA
सार्थक शब्दों के निरर्थक अर्थ
Manisha Manjari
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
पिता
Anis Shah
ठनक रहे माथे गर्मीले / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नींबू के मन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
बादल को पाती लिखी
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
" मां भवानी "
Dr Meenu Poonia
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
**अशुद्ध अछूत - नारी **
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रसिया यूक्रेन युद्ध विभीषिका
Ram Krishan Rastogi
हो दर्दे दिल तो हाले दिल सुनाया भी नहीं जाता।
सत्य कुमार प्रेमी
इंसानो की यह कैसी तरक्की
Anamika Singh
पिता
Shailendra Aseem
शब्द नही है पिता जी की व्याख्या करने को।
Taj Mohammad
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
*रामपुर रजा लाइब्रेरी में रक्षा-ऋषि लेफ्टिनेंट जनरल श्री वी. के....
Ravi Prakash
Loading...