Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 24, 2016 · 1 min read

कलम अलबेली

कलम अलबेली मेरी सहेली, साथ सदा रहती
मेरे दिल की ये धड़कन इसे हर बात मैं कहती
खिला देती कागज़ के फूल, भरती रंग अनेक
कभी श्रृंगार, वीर, रौद्र कभी करुणा धार बहती।

181 Views
You may also like:
कहने से
Rakesh Pathak Kathara
बहुत कुछ सिखा
Swami Ganganiya
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
हैप्पी फादर्स डे (लघुकथा)
drpranavds
मित्र
Vijaykumar Gundal
“ THANKS नहि श्रेष्ठ केँ प्रणाम करू “
DrLakshman Jha Parimal
बाज़ी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अश्रुपात्र ... A glass of tears भाग- 2 और 3
Dr. Meenakshi Sharma
नन्हा बीज
मनोज कर्ण
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अंदाज़ ही निराला है।
Taj Mohammad
मुक्तक: युद्ध को विराम दो.!
Prabhudayal Raniwal
बाबू जी
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ये पहाड़ कायम है रहते ।
Buddha Prakash
*!* कच्ची बुनियाद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
लांगुरिया
Subhash Singhai
ऐ वतन!
Anamika Singh
सब खड़े सुब्ह ओ शाम हम तो नहीं
Anis Shah
आज फिर
Rashmi Sanjay
मां की पुण्यतिथि
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गीत ग़ज़लें सदा गुनगुनाते रहो।
सत्य कुमार प्रेमी
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
पितृ नभो: भव:।
Taj Mohammad
✍️आस्तीन में सांप✍️
"अशांत" शेखर
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
होते हैं कई ऐसे प्रसंग
Dr. Alpa H. Amin
✍️ मसला क्यूँ है ?✍️
"अशांत" शेखर
✍️बगावत थी उसकी✍️
"अशांत" शेखर
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
*श्री हुल्लड़ मुरादाबादी 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
Loading...