Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jun 2016 · 1 min read

जोड़-तोड़

जोड़-तोड़, कर जुगाड़, संवार बिगाड़ यही संसार
शैशव में शिशु भी करता यही , सीखने का आधार।
घटा-गुणा के चक्कर में पड़ी है देखो दुनिया सारी
जप तू राम-नाम सरस, ले अपना जीवन भी’ संवार।

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
292 Views
You may also like:
दर्द और विश्वास
Anamika Singh
एक फौजी का अधूरा खत...
Dalveer Singh
गुरु पूर्णिमा
Vikas Sharma'Shivaaya'
इश्क़ की जुर्रत
Shekhar Chandra Mitra
मेरा अक्स तो आब है।
Taj Mohammad
खींच मत अपनी ओर.....
डॉ.सीमा अग्रवाल
यह तस्वीर कुछ बोलता है
राकेश कुमार राठौर
वक़्त बे-वक़्त तुझे याद किया
Anis Shah
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
वक्त वक्त की बात है 🌷🌷
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
आँखों में बगावत है ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
भगत सिंह ; जेल डायरी
Gouri tiwari
जच्चाबच्चासेंटर
Ravi Prakash
आज नहीं तो कल होगा / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल की आवाज़
Dr fauzia Naseem shad
“ मिलकर सबके साथ चलो “
DrLakshman Jha Parimal
इतना काफी है
Saraswati Bajpai
"अशांत" शेखर भाई के लिए दो शब्द -
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
सच कह रहा हूँ तुमसे
gurudeenverma198
गुरु महान है।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
गीता की महत्ता
Pooja Singh
✍️✍️लफ्ज़✍️✍️
'अशांत' शेखर
कैसे प्रेम इज़हार करूं
Er.Navaneet R Shandily
मेहमान बनकर आए और दुश्मन बन गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
मुंशी प्रेम चंद्र की कहानी नशा की समीक्षा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
बेटी की मायका यात्रा
Ashwani Kumar Jaiswal
आया शरद पूर्णिमा की महारास
लक्ष्मी सिंह
कुज्रा-कुजर्नी ( #लोकमैथिली_हाइकु)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हमलोग
Dr.sima
Loading...