Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 16, 2016 · 1 min read

प्रेम धार

निराशा न घेरे कभी बार-बार
दिलासा सभी को सभी को दुलार
नमी हो दिलों में बहे ज्ञान गंग
न शिकवे गिले हों बहे प्रेम धार।

158 Views
You may also like:
جانے کہاں وہ دن گئے فصل بہار کے
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
आदमी की आवाज हैं नागार्जुन
Ravi Prakash
गीत... हो रहे हैं लोग
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
नारियल
Buddha Prakash
✍️अज़ीब इत्तेफ़ाक है✍️
"अशांत" शेखर
تیری یادوں کی خوشبو فضا چاہتا ہوں۔
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
✍️अलहदा✍️
"अशांत" शेखर
तेरी हर बात सनद है, हद है
Anis Shah
दो दिलों का मेल है ये
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता का प्यार
pradeep nagarwal
किसको बुरा कहें यहाँ अच्छा किसे कहें
Dr Archana Gupta
अलबेले लम्हें, दोस्तों के संग में......
Aditya Prakash
अनजान बन गया है।
Taj Mohammad
💐💐प्रेम की राह पर-14💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिल की ख्वाहिशें।
Taj Mohammad
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
अफसोस-कर्मण्य
Shyam Pandey
✍️किस्मत ही बदल गयी✍️
"अशांत" शेखर
बेरूखी
Anamika Singh
तुम्हें सुकूँ सा मिले।
Taj Mohammad
विचलित मन
AMRESH KUMAR VERMA
मानव छंद , विधान और विधाएं
Subhash Singhai
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
पिता
Rajiv Vishal
Where is Humanity
Dheerendra Panchal
कुछ तुम बदलो, कुछ हम बदलें।
निकेश कुमार ठाकुर
डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर
N.ksahu0007@writer
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
वो दिन भी बहुत खूबसूरत थे
Krishan Singh
बहते हुए लहरों पे
Nitu Sah
Loading...