Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2016 · 1 min read

पिया परदेस

कुछ तपन मन में और कुछ बातें अनकही
कहूँ किसे पिया परदेस यही सोच रही
लिखूं मैं कोरे कागज़ पर मन की बातें
वो भी पढ़े विरह में, मैंने क्या-क्या सही

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
407 Views
You may also like:
■ आलेख / अनुभूत और अभोव्यक्त
*प्रणय प्रभात*
करप्शन के टॉवर ढह गए
Ram Krishan Rastogi
जिन्दगी
Anamika Singh
मुक्तक
Arvind trivedi
छलिया जैसा मेघों का व्यवहार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
फौजी ज़िन्दगी
Lohit Tamta
आधा इंसान
GOVIND UIKEY
मेरी बेटी
लक्ष्मी सिंह
कोशिशों में तेरी
Dr fauzia Naseem shad
युवाको मानसिकता (नेपाली लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हिन्दी दिवस
Aditya Prakash
करते रहिये काम
सूर्यकांत द्विवेदी
त्याग
श्री रमण 'श्रीपद्'
ग़ज़ल- राना सवाल रखता है
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
देश बचाओ
Shekhar Chandra Mitra
सागर ही क्यों
Shivkumar Bilagrami
याद आते हैं
Dr. Sunita Singh
उम्मीद का चराग।
Taj Mohammad
"पिता का जीवन"
पंकज कुमार कर्ण
अमर शहीद चंद्रशेखर "आज़ाद" (कुण्डलिया)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"মিত্র"
DrLakshman Jha Parimal
* चांद बोना पड गया *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वही मित्र है
Kavita Chouhan
*श्रेष्ठतम हरिनाम हो 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
“कलम”
Gaurav Sharma
तुम्हारे माता-पिता
Saraswati Bajpai
दिल-ए-रहबरी
Mahesh Tiwari 'Ayen'
शाइ'राना है तबीयत
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वफ़ा
Seema 'Tu hai na'
मुहब्बत और जंग
shabina. Naaz
Loading...