Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Dec 2023 · 1 min read

मुक्तक

सूझ-बूझ ईमान सब, कहने की है बात ।
रोटी के मोहताज हैं, जीवन के हालात ।
जब तक तन में श्वास है, चले क्षुधा की जंग –
मुफलिस को हरदम लगे,लम्बी भूखी रात ।
***
बेटा – बेटी एक से, कहने की है बात ।
बेटा सुख का सारथी, बेटी सहे आघात ।
मिला नहीं वो आज तक, बेटी को सम्मान –
जिसके लिए समाज से,उलझी वो दिन रात ।

सुशील सरना / 25-12-23

91 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2329.पूर्णिका
2329.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
चौथ का चांद
चौथ का चांद
Dr. Seema Varma
"असम्भव"
Dr. Kishan tandon kranti
बीती सदियाँ राम हैं , भारत के उपमान(कुंडलिया)
बीती सदियाँ राम हैं , भारत के उपमान(कुंडलिया)
Ravi Prakash
दोहा त्रयी . . . .
दोहा त्रयी . . . .
sushil sarna
कशमें मेरे नाम की।
कशमें मेरे नाम की।
Diwakar Mahto
जिंदगी
जिंदगी
अखिलेश 'अखिल'
क़ीमती लिबास(Dress) पहन कर शख़्सियत(Personality) अच्छी बनाने स
क़ीमती लिबास(Dress) पहन कर शख़्सियत(Personality) अच्छी बनाने स
Trishika S Dhara
जिस दिन कविता से लोगों के,
जिस दिन कविता से लोगों के,
जगदीश शर्मा सहज
प्रेम की राह।
प्रेम की राह।
लक्ष्मी सिंह
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
नमामि राम की नगरी, नमामि राम की महिमा।
डॉ.सीमा अग्रवाल
लोभी चाटे पापी के गाँ... कहावत / DR. MUSAFIR BAITHA
लोभी चाटे पापी के गाँ... कहावत / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
You cannot feel me because
You cannot feel me because
Sakshi Tripathi
💐प्रेम कौतुक-525💐
💐प्रेम कौतुक-525💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रखें बड़े घर में सदा, मधुर सरल व्यवहार।
रखें बड़े घर में सदा, मधुर सरल व्यवहार।
आर.एस. 'प्रीतम'
दृढ़
दृढ़
Sanjay ' शून्य'
दर्द पर लिखे अशआर
दर्द पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
चलो जिंदगी का कारवां ले चलें
VINOD CHAUHAN
एक बार नहीं, हर बार मैं
एक बार नहीं, हर बार मैं
gurudeenverma198
तस्वीर जो हमें इंसानियत का पाठ पढ़ा जाती है।
तस्वीर जो हमें इंसानियत का पाठ पढ़ा जाती है।
Abdul Raqueeb Nomani
आरम्भ
आरम्भ
Neeraj Agarwal
युद्ध के स्याह पक्ष
युद्ध के स्याह पक्ष
Aman Kumar Holy
बहुत कुछ था कहने को भीतर मेरे
बहुत कुछ था कहने को भीतर मेरे
श्याम सिंह बिष्ट
योगा डे सेलिब्रेशन
योगा डे सेलिब्रेशन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पुनर्जागरण काल
पुनर्जागरण काल
Dr.Pratibha Prakash
سب کو عید مبارک ہو،
سب کو عید مبارک ہو،
DrLakshman Jha Parimal
लोगो का व्यवहार
लोगो का व्यवहार
Ranjeet kumar patre
भजन
भजन
सुरेखा कादियान 'सृजना'
घायल तुझे नींद आये न आये
घायल तुझे नींद आये न आये
Ravi Ghayal
"जिन्हें तैरना नहीं आता
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...