Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 6, 2021 · 1 min read

मुक्तक

पर्यावरण

वृक्ष हों तो स्वच्छ हो वातावरण,
दूर कर दें, छा गया जो आवरण,
“ऐक पुत्र सौ वृक्ष” यही हो नारा,
तब बदल सकते सभी पर्यावरण l

सौ वृक्षों से तुलना करते,
होते पुत्र समान,
नगर प्रदूषण ही खो देगा,
मानव की पहिचान,
आज समय के साथ
चेतना भी आवश्यक,
ताप बढ़ा धरती पर तो फिर
होंगे सब हैरान l

पर्यावरण स्वच्छ रक्खें सब पेड़ लगायें,
घर का कचरा एकत्रित कर उसे लायें,
गोबर, मल को करें इकट्ठा खाद बनाएं
रहें स्वच्छ सब तो जीवन में हम सुख पायें l
डा० हरिमोहन गुप्त

1 Like · 1 Comment · 239 Views
You may also like:
तेरा नाम।
Taj Mohammad
मेरी कलम से किस किस की लिखूँ मैं कुर्बानी।
PRATIK JANGID
जो मौका रहनुमाई का मिला है
Anis Shah
गम होते हैं।
Taj Mohammad
पत्थर दिल
Seema 'Tu haina'
✍️मिसाले✍️
'अशांत' शेखर
जब चलती पुरवइया बयार
श्री रमण 'श्रीपद्'
आया जो,वो आएगा
AMRESH KUMAR VERMA
प्रतीक्षा के द्वार पर
Saraswati Bajpai
सिंधु का विस्तार देखो
surenderpal vaidya
कब आओगे
dks.lhp
मैं परछाइयों की भी कद्र करता हूं
VINOD KUMAR CHAUHAN
कान्हा तुमको सौ-सौ बार बधाई (भक्ति गीत)
Ravi Prakash
मुरादाबाद स्मारिका* *:* *30 व 31 दिसंबर 1988 को उत्तर...
Ravi Prakash
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
दोहा में लय, समकल -विषमकल, दग्धाक्षर , जगण पर विचार...
Subhash Singhai
Little baby !
Buddha Prakash
प्रकृति
Pt. Brajesh Kumar Nayak
न कोई चाहत
Ray's Gupta
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
यादें
Anamika Singh
बाजार
साहित्य गौरव
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार "कर्ण"
सुभाष चंद्र बोस
Anamika Singh
नीम का छाँव लेकर
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️मन की बात✍️
'अशांत' शेखर
तिरंगा मेरी जान
AMRESH KUMAR VERMA
अल्फाज़ ए ताज भाग-5
Taj Mohammad
पापा ने मां बनकर।
Taj Mohammad
*भारती* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...