Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2016 · 1 min read

मुक्तक

बुलन्दी की शिखा तक मैं, शिखा बन आस की चलती,
नयन में या किसी के मैं, शिखा बन ख्वाब की पलती।
शिखा हूँ मैं जले जाना , यही फितरत सदा से है,
मिटाकर तम दिलों का मैं, शिखा बन प्यार की जलती।

दीपशिखा सागर-

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
294 Views
You may also like:
फ़ासला पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
एक ग़ज़ल लिख रहा हूं।
Taj Mohammad
बदरा कोहनाइल हवे
सन्तोष कुमार विश्वकर्मा 'सूर्य'
सलाम
Dr.S.P. Gautam
*पेड़ के बूढ़े पत्ते (कहानी)*
Ravi Prakash
सुर बिना संगीत सूना.!
Prabhudayal Raniwal
# मां ...
Chinta netam " मन "
बुजुर्गो की बात
AMRESH KUMAR VERMA
फ़क़ीरी में खुश है वो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सबूत
Dr.Priya Soni Khare
भूख (मैथिली काव्य)
मनोज कर्ण
धैर्य कि दृष्टि धनपत राय की दृष्टि
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
■ आलेख / दारुण विडम्बना
*प्रणय प्रभात*
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
अक्षय तृतीया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुरु
Seema 'Tu hai na'
भारत के बुद्धिजीवी
Shekhar Chandra Mitra
✍️कथासत्य✍️
'अशांत' शेखर
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
पागल हूं जो दिन रात तुझे सोचता हूं।
Harshvardhan "आवारा"
अनेकतामा एकता
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
💐सुरक्षा चक्र💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तोड़ डालो ये परम्परा
VINOD KUMAR CHAUHAN
बच्चों को खूब लुभाते आम
Ashish Kumar
प्रकाश
Saraswati Bajpai
समर
पीयूष धामी
बारहमासी समस्या
Aditya Prakash
" विचित्र उत्सव "
Dr Meenu Poonia
नवगीत -
Mahendra Narayan
सुनती नहीं तुम
शिव प्रताप लोधी
Loading...