Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jan 26, 2017 · 1 min read

मुक्तक

जिन्दगी में सबको प्यार मिलता नहीं है!
महफिलों में सबको यार मिलता नहीं है!
हुस्न की अदा के तलबगार हैं लेकिन,
गम में सबको मददगार मिलता नहीं है!

#महादेव_की_कविताऐं'(23)

151 Views
You may also like:
श्रद्धा और सबुरी ....,
Vikas Sharma'Shivaaya'
परिवार दिवस
Dr Archana Gupta
मिलन की तड़प
Dr. Alpa H. Amin
✍️एक फ़रियाद..✍️
"अशांत" शेखर
उसने ऐसा क्यों किया
Anamika Singh
#क्या_पता_मैं_शून्य_न_हो_जाऊं
D.k Math
हंसगति छंद , विधान और विधाएं
Subhash Singhai
हे कुंठे ! तू न गई कभी मन से...
ओनिका सेतिया 'अनु '
* अदृश्य ऊर्जा *
Dr. Alpa H. Amin
यदि मेरी पीड़ा पढ़ पाती
Saraswati Bajpai
हे गुरू।
Anamika Singh
✍️मैं परिंदा...!✍️
"अशांत" शेखर
ग़ज़ल
Awadhesh Saxena
विश्व पुस्तक दिवस पर पुस्तको की वेदना
Ram Krishan Rastogi
मैं आखिरी सफर पे हूँ
VINOD KUMAR CHAUHAN
सपनों का महल
मनमोहन लाल गुप्ता अंजुम
"मेरे पापा "
Usha Sharma
शीतल पेय
श्री रमण
इश्क में तुम्हारे गिरफ्तार हो गए।
Taj Mohammad
यादों का मंजर
Mahesh Tiwari 'Ayen'
*बुद्ध पूर्णिमा 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
बेबसी
Varsha Chaurasiya
*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
Ravi Prakash
रे बाबा कितना मुश्किल है गाड़ी चलाना
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कैसे समझाऊँ तुझे...
Sapna K S
सुंदर बाग़
DESH RAJ
मेहमान बनकर आए और दुश्मन बन गए ..
ओनिका सेतिया 'अनु '
✍️वो "डर" है।✍️
"अशांत" शेखर
रूसवा है मुझसे जिंदगी
VINOD KUMAR CHAUHAN
फिजूल।
Taj Mohammad
Loading...