Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मुक्तक

अँधेरे रास क्या आते उदासी सह नहीं पाया।
तुम्हारे बिन गुज़ारीं रात तन्हा रहह नहीं पाया।
मिला धोखा मुहब्बत में नहीं उम्मीद थी जिसकी-
गिला,शिकवा, शिकायत को कभी मैं कह नहीं पाया।

बैर, नफ़रत सा नहीं बदरंग होना चाहिए।
प्रीत रस मन घोलकर हुड़दंग होना चाहिए।
रँग गई सरहद लहू से आज अपनों के लिए-
देह से उतरे नहीं वो रंग होना चाहिए।

डॉ. रजनी अग्रवाल ‘वाग्देवी रत्ना’
महमूरगंज, वाराणसी(उ. प्र.)
संपादिका-साहित्य धरोहर

340 Views
You may also like:
तारीफ़ क्या करू तुम्हारे शबाब की
Ram Krishan Rastogi
कुण्डलिया
शेख़ जाफ़र खान
ये सियासत है।
Taj Mohammad
तेरी एक तिरछी नज़र
DESH RAJ
मकड़जाल
Vikas Sharma'Shivaaya'
हमें तुम भुल गए
Anamika Singh
प्रेम की राह पर -8
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*दर्शन प्रभुजी दिया करो (गीत भजन)*
Ravi Prakash
जिदंगी के कितनें सवाल है।
Taj Mohammad
✍️✍️पुन्हा..!✍️✍️
"अशांत" शेखर
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
जीने का नजरिया अंदर चाहिए।
Taj Mohammad
बरसात में साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
✍️रिश्तेदार.. ✍️
Vaishnavi Gupta
अब मैं बहुत खुश हूँ
gurudeenverma198
Be A Spritual Human
Buddha Prakash
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"नजीबुल्लाह: एक महान राष्ट्रपति का दुखदाई अन्त"
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
(स्वतंत्रता की रक्षा)
Prabhudayal Raniwal
समुंदर बेच देता है
आकाश महेशपुरी
घुटने टेके नर, कुत्ती से हीन दिख रहा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ग़ज़ल
kamal purohit
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
.✍️आशियाना✍️
"अशांत" शेखर
दिल है कि मानता ही नहीं
gurudeenverma198
कैसे बताऊं,मेरे कौन हो तुम
Ram Krishan Rastogi
✍️आओ गुल गुलज़ार वतन करे✍️
"अशांत" शेखर
धीरे-धीरे कदम बढ़ाना
Anamika Singh
मैं रात-दिन
Dr fauzia Naseem shad
Loading...