Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 20, 2019 · 1 min read

मुक्तक

“याद मेरी , गुलशनों की , दास्ताँ बन जाएगी,
कोई इक डाली ही, मेरा आशियाँ बन जाएगी,
फ़ूल भी, सपने भी इसमें, आस भी, अहसास भी,
मेरी खुद की जिंदगी, मेरा जहाँ बन जाएगी “

105 Views
You may also like:
एहसास में बे'एहसास की
Dr fauzia Naseem shad
मनोमंथन
Dr.Alpa Amin
" शीतल कूलर
Dr Meenu Poonia
सावन के काले बादल औ'र बदलियां ग़ज़ल में।
सत्य कुमार प्रेमी
*सारथी बनकर केशव आओ (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
पत्थर दिल
Seema Tuhaina
"সালগিরহ"
DrLakshman Jha Parimal
कर्म में कौशल लाना होगा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
मुक्तक- उनकी बदौलत ही...
आकाश महेशपुरी
दोस्त हो जो मेरे पास आओ कभी।
सत्य कुमार प्रेमी
दृश्य प्रकृति के
श्री रमण 'श्रीपद्'
क्यों ना नये अनुभवों को अब साथ करें?
Manisha Manjari
ज़ब्त क्यों मेरा आज़माते हो
Dr fauzia Naseem shad
किसी से ना कोई मलाल है।
Taj Mohammad
कुछ हम भी बदल गये
Dr fauzia Naseem shad
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
नाथूराम गोडसे
Anamika Singh
जोकर vs कठपुतली ~03
bhandari lokesh
धूप में साया।
Taj Mohammad
घृणित नजर
Dr Meenu Poonia
" विचित्र उत्सव "
Dr Meenu Poonia
✍️इश्क़ के बीमार✍️
'अशांत' शेखर
स्कूल का पहला दिन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
करते है प्यार कितना ,ये बता सकते नही हम
Ram Krishan Rastogi
शादी का उत्सव
AMRESH KUMAR VERMA
बचपन पुराना रे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
✍️मैं जलजला हूँ✍️
'अशांत' शेखर
रोता आसमां
Alok Saxena
रस्सियाँ पानी की (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
Loading...