Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 1, 2019 · 1 min read

मुक्तक !

दुख इसका नही कि वो शांति की बात नही करते हैं
हम परेशां हैं कि वो इंसानियत भुलाने की बात करते हैं।
हथियारों के व्यपारी हैं जो, शांति दूत बना कर उसे लाए हैं
अपनों के सीने में लोहा उतारने की हिमायत वो करते हैं।
हथियारों के सौदागर अब युद्ध के सै-सै फ़ायदे गिनवाते हैं
जो युद्ध न हुआ तो हथियार बैठ कर क्या वो खायेंगे।
01-03-2019
।।सिद्धार्थ।।

4 Likes · 238 Views
You may also like:
आईना झूठ लगे
VINOD KUMAR CHAUHAN
चल-चल रे मन
Anamika Singh
गम देके।
Taj Mohammad
जाने कहाँ
Dr fauzia Naseem shad
मैं तुमको याद आऊंगा।
Taj Mohammad
उबारो हे शंकर !
Shailendra Aseem
दूध होता है लाजवाब
Buddha Prakash
कश्ती को साहिल चाहिए।
Taj Mohammad
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जब से आया शीतल पेय
श्री रमण 'श्रीपद्'
जीना मुश्किल
Harshvardhan "आवारा"
नशे में मुब्तिला है।
Taj Mohammad
सुखला से सावन के आहत किसान बा।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मन की व्यथा।
Rj Anand Prajapati
Only Love Remains
Manisha Manjari
✍️I am a Laborer✍️
"अशांत" शेखर
नहीं, अब ऐसा नहीं होगा
gurudeenverma198
बुरा तो ना मानोगी।
Taj Mohammad
टेढ़ी-मेढ़ी जलेबी
Buddha Prakash
स्वाबलंबन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मर्द को भी दर्द होता है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
खूबसूरत तस्वीर
DESH RAJ
लेके काँवड़ दौड़ने
Jatashankar Prajapati
=*तुम अन्न-दाता हो*=
Prabhudayal Raniwal
✍️कुछ हंगामा करना पड़ता है✍️
"अशांत" शेखर
ए- वृहत् महामारी गरीबी
AMRESH KUMAR VERMA
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
“ মাছ ভেল জঞ্জাল ”
DrLakshman Jha Parimal
दिया और हवा
Anamika Singh
परख लो रास्ते को तुम.....
अश्क चिरैयाकोटी
Loading...