Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
Jun 5, 2016 · 1 min read

मुक्तक

बने बैठे थे पत्थर से ,
कभी जो खार मंज़र से ,
दिवाने बन के निकले हैं,
मुहब्बत के समन्दर से….

160 Views
You may also like:
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
मैं तो सड़क हूँ,...
मनोज कर्ण
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
माँ
आकाश महेशपुरी
पिता
Shailendra Aseem
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
पिता हिमालय है
जगदीश शर्मा सहज
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
पहचान...
मनोज कर्ण
संघर्ष
Sushil chauhan
दोहे एकादश ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
मेरे पापा
Anamika Singh
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
हिय बसाले सिया राम
शेख़ जाफ़र खान
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
अनामिका के विचार
Anamika Singh
Loading...