Oct 14, 2016 · 1 min read

मुक्तक : सूर्य का जग में नवल उन्मेष हो ( पोस्ट १६)

सूर्य का जग में नवल उन्मेष हो ।
भ्रांति का कोई न मग अब शेष हो ।
हो सुशासन देश में संदेश यह —
मुस्कराता उल्लसित परिवेश हो ।।२!!

—– जितेंद्र कमल आनंद

157 Views
You may also like:
आप कौन है
Sandeep Albela
हाइकु:(लता की यादें!)
Prabhudayal Raniwal
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
पिता
Aruna Dogra Sharma
विश्व मजदूर दिवस पर दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
आपकी तरहां मैं भी
gurudeenverma198
यादें आती हैं
Krishan Singh
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
बगिया जोखीराम में श्री चंद्र सतगुरु की आरती
Ravi Prakash
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
💐💐प्रेम की राह पर-12💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गँवईयत अच्छी लगी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
💐💐प्रेम की राह पर-16💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
✍️🌺प्रेम की राह पर-46🌺✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
आप ऐसा क्यों सोचते हो
gurudeenverma198
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हे ईश्वर!
Anamika Singh
नई तकदीर
मनोज कर्ण
प्रयास
Dr.sima
नैतिकता और सेक्स संतुष्टि का रिलेशनशिप क्या है ?
Deepak Kohli
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
पापा की परी...
Sapna K S
पुस्तक की पीड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
परिवार
सूर्यकांत द्विवेदी
यही है भीम की महिमा
Jatashankar Prajapati
बड़ा भाई बोल रहा हूं
Satpallm1978 Chauhan
युद्ध हमेशा टाला जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...