Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#7 Trending Author
Mar 8, 2022 · 1 min read

मुक्तक: युद्ध को विराम दो.!

*************************************
तीसरे विश्व-युद्ध की झलक- दुनिया देख रहीं है!
धरती-माॅं रो रही! संतान की करतुतें देख रहीं है।
हिटलर मत बनो कपूतों,अब! युद्ध को विराम दो–
दंड से बचो! ईश्वर की दृष्टि सब-कुछ देख रहीं है।।
**************************************
*रचयिता: प्रभु दयाल रानीवाल*।
।==*उज्जैन*{ मध्यप्रदेश}*===।
**************************************

2 Likes · 4 Comments · 914 Views
You may also like:
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
जून की दोपहर (कविता)
Kanchan Khanna
कर्मठ राष्ट्रवादी श्री राजेंद्र कुमार आर्य
Ravi Prakash
जिंदगी क्या है?
Ram Krishan Rastogi
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
माँ गंगा
Anamika Singh
✍️कधी कधी✍️
"अशांत" शेखर
दिनांक 10 जून 2019 से 19 जून 2019 तक अग्रवाल...
Ravi Prakash
✍️बुनियाद✍️
"अशांत" शेखर
ग़म-ए-दिल....
Aditya Prakash
पिता जीवन में ऐसा ही होता है।
Taj Mohammad
कातिल बन गए है।
Taj Mohammad
किताब।
Amber Srivastava
अर्धनारीश्वर की अवधारणा...?
मनोज कर्ण
उड़ी पतंग
Buddha Prakash
कहाँ चले गए
Taran Verma
सपना
AMRESH KUMAR VERMA
मनुज से कुत्ते कुछ अच्छे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
यूं काटोगे दरख़्तों को तो।
Taj Mohammad
'बाबूजी' एक पिता
पंकज कुमार "कर्ण"
** दर्द की दास्तान **
Dr. Alpa H. Amin
सुर बिना संगीत सूना.!
Prabhudayal Raniwal
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण
एक जंग, गम के संग....
Aditya Prakash
"पिता"
Dr. Alpa H. Amin
संविधान विशेष है
Buddha Prakash
मैं मेहनत हूँ
Anamika Singh
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
इश्क भी कलमा।
Taj Mohammad
बचपन की यादें
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...