#13 Trending Author

मुक्तक- उनकी बदौलत ही…

मुक्तक- उनकी बदौलत ही…
■■■■■■■■■■■■■■■■■
कहीं मैं दूर जाऊँ तो मुझे वो घर बुलातीं हैं,
रहूँ घर पे जो मैं दिन-रात बस पत्थर बुलातीं हैं,
मगर उनकी बदौलत ही कलम चलती है यह मेरी,
मैं लिखना भूल जाऊँ तो मुझे कविवर बुलातीं हैं।

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 10/07/2019

1 Like · 1 Comment · 127 Views
You may also like:
बुद्ध पूर्णिमा पर तीन मुक्तक।
Anamika Singh
वफा की मोहब्बत।
Taj Mohammad
नादानी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
परीक्षा को समझो उत्सव समान
ओनिका सेतिया 'अनु '
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
मुस्कुराहटों के मूल्य
Saraswati Bajpai
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
खो गया है बचपन
Shriyansh Gupta
शायद...
Dr. Alpa H.
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*मृदुभाषी श्री ऊदल सिंह जी : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
"हमारी यारी वही है पुरानी"
Dr. Alpa H.
इंतजार मत करना
Rakesh Pathak Kathara
💐 देह दलन 💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
चार काँधे हों मयस्सर......
अश्क चिरैयाकोटी
दिल की आरजू.....
Dr. Alpa H.
विसाले यार ना मिलता है।
Taj Mohammad
मजदूर_दिवस_पर_विशेष
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मौत ने कुछ बिगाड़ा नहीं
अरशद रसूल /Arshad Rasool
काँटे .. ज़ख्म बेहिसाब दे गये
Princu Thakur "usha"
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
यादों की साजिशें
Manisha Manjari
ये जज़्बात कहां से लाते हो।
Taj Mohammad
*कलम शतक* :कवि कल्याण कुमार जैन शशि
Ravi Prakash
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
पिता
pradeep nagarwal
पंडित मदन मोहन व्यास की कुंडलियों में हास्य का पुट
Ravi Prakash
Loading...