Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2019 · 1 min read

मुक्तक- उनकी बदौलत ही…

मुक्तक- उनकी बदौलत ही…
■■■■■■■■■■■■■■■■■
कहीं मैं दूर जाऊँ तो मुझे वो घर बुलातीं हैं,
रहूँ घर पे जो मैं दिन-रात बस पत्थर बुलातीं हैं,
मगर उनकी बदौलत ही कलम चलती है यह मेरी,
मैं लिखना भूल जाऊँ तो मुझे कविवर बुलातीं हैं।

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 10/07/2019

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
2 Likes · 2 Comments · 454 Views
You may also like:
बहुत ही महंगा है ये शौक ज़िंदगी के लिए।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जमाने मे जिनके , " हुनर " बोलते है
Ram Ishwar Bharati
मुक्तक व दोहा
अरविन्द व्यास
सोशल मीडिया पर नकेल
Shekhar Chandra Mitra
अहीर छंद (अभीर छंद)
Subhash Singhai
प्रेम
लक्ष्मी सिंह
आओ दीप जलाएं
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
" सिर का ताज हेलमेट"
Dr Meenu Poonia
ख़ुशियों का त्योहार मुबारक
आकाश महेशपुरी
मिथ्या मार्ग का फल
AMRESH KUMAR VERMA
■ आलेख / दारुण विडम्बना
*प्रणय प्रभात*
आजादी के दीवानों ने
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गर्मी का रेखा-गणित / (समकालीन नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
विश्व शांति
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
राफेल विमान
jaswant Lakhara
माँ स्कंदमाता
Vandana Namdev
*सरल हृदय बन जाऊँ (गीत)*
Ravi Prakash
💐अस्माकं प्रापणीयं तत्व: .....….....💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गुरु पूर्णिमा
Vikas Sharma'Shivaaya'
पिता
Aruna Dogra Sharma
जश्ने-आज़ादी की इस तरह से
Dr fauzia Naseem shad
समझता है सबसे बड़ा हो गया।
सत्य कुमार प्रेमी
हम भी नज़ीर बन जाते।
Taj Mohammad
Feel The Love
Buddha Prakash
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ७]
Anamika Singh
शुभ दीपावली
Dr Archana Gupta
✍️सलं...!✍️
'अशांत' शेखर
इजाजत है अगर मुझे प्यार करने की
Ram Krishan Rastogi
महामारी covid पर
shabina. Naaz
# मेरे जवान ......
Chinta netam " मन "
Loading...