Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 11, 2016 · 1 min read

मुक्तक :– आसान लम्हे हो गये !!

मुक्तक :– आसान लम्हे हो गये !!
अनुज तिवारी “इन्दवार”

वक्त जब वश में हुआ आसान लम्हे हो गये !
और मुश्किल वक्त पर शैतान लम्हे हो गये !
वक्त की एक मार से बेमौत मरती जिंदगी !
वक्त की पहचान कर मुस्कान लम्हे हो गये !!

346 Views
You may also like:
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
कौन किसके बिन अधूरा है
Ram Krishan Rastogi
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
मन की बात
Rashmi Sanjay
*शंकर तुम्हें प्रणाम है (भक्ति-गीत)*
Ravi Prakash
अपने पापा की मैं हूं।
Taj Mohammad
Crumbling Wall
Manisha Manjari
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
लाल टोपी
मनोज कर्ण
✍️बस इतनी सी ख्वाईश✍️
"अशांत" शेखर
जो देखें उसमें
Dr.sima
हर गम को ही सह लूंगा।
Taj Mohammad
कातिल ना मिला।
Taj Mohammad
दादी की कहानी
दुष्यन्त 'बाबा'
✍️मैं एक मजदुर हूँ✍️
"अशांत" शेखर
✍️ये केवल संकलन है,पाठकों के लिये प्रस्तुत
"अशांत" शेखर
ये दिल टूटा है।
Taj Mohammad
यह कौन सा विधान है
Vishnu Prasad 'panchotiya'
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर
N.ksahu0007@writer
खेल-कूद
AMRESH KUMAR VERMA
उत्तर प्रदेश दिवस
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बरसात में साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
आखिर क्यों... ऐसा होता हैं 
Dr. Alpa H. Amin
बस एक ही भूख
DESH RAJ
प्यार में तुम्हें ईश्वर बना लूँ, वह मैं नहीं हूँ
Anamika Singh
मंदिर
जगदीश लववंशी
आज की पत्रकारिता
Anamika Singh
वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पर दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...