Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jun 2022 · 1 min read

मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)

लादे सिर पर
घर की चिंता
मुँह-इँदियारे
जागे दद्दा ।

गहरी साँसें
राम नाम ले
गाय, बैल को
चारा देते ।
आग जला
गुरसी में थोड़ी
हाथ सेंकते,
पाँव सेंकते ।
उठा गड़ई
जाते हैं बाहर ,
हल्के होकर
आते हैं घर ।
हाथ गड़ई को
ठीक माँजकर
आँख सुनहरे
स्वप्न आँजकर ।

पतरी लकड़ी
ले कंजी की
करन मुखारी
लागे दद्दा ।

हल्कू, बड्डू
सब सोते हैं,
रमकलिया
जग गई सकारे ।
चौका बासन
उपले थपकर
लगी बुहारन
देहरी-द्वारे ।
चूल्हा जला
अदहन धरती है,
पनघट जा
पानी भरती है ।
सिर पर रखकर
गुंड-कसैंड़ी,
भरी खेप
लेकर आई है ।
वय किशोर है
कोमल हाथों,

जिम्मेदारी
सर आई है ।
परवशता के
मारे दद्दा ।

आज अगर
माँ इसकी होती,
रमकलिया
गोदी में सोती ।
कौंरी उमर
बोझ है भारी,
छोरी, छोरों
से भी न्यारी ।
कभी नहीं कुछ
माँगा इसने,
पूरा घर
संभाला इसने ।
बावजूद ख़ुद
भी पढ़ती है ।
छोटू को भी
ख़ुश रखती है ।
बिटिया की
चिंताएँ लेकर,

और काम का
समय भाँपकर ।
नदी नहाने
भागे दद्दा ।

लादे सिर पर
घर की चिंता
मुँह-इँदियारे
जागे दद्दा ।

— ईश्वर दयाल गोस्वामी
168, छिरारी (रहली)
जिला – सागर (म.प्र.)

Language: Hindi
Tag: गीत
14 Likes · 18 Comments · 286 Views
You may also like:
अंतरिक्ष 🌒☀️
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
एक अलग सी दीवाली
Rashmi Sanjay
पापाचार बढ़ल बसुधा पर (भोजपुरी)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
मृदुल कीर्ति जी का गद्यकोष एव वैचारिक ऊर्जा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
क्या करें हम भुला नहीं पाते तुम्हे
VINOD KUMAR CHAUHAN
राख
लक्ष्मी सिंह
सजा मुस्कराने की क्या होगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
इंकलाब की तैयारी
Shekhar Chandra Mitra
ग़ज़ल
Nityanand Vajpayee
✍️One liner quotes✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
चंद दोहे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
भारतवर्ष
Utsav Kumar Aarya
मेरे ख्यालों में क्यो आते हो
Ram Krishan Rastogi
माटी जन्मभूमि की दौलत ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
✍️'रामराज्य'
'अशांत' शेखर
किसी को गिराया नहीं मैनें।
Taj Mohammad
आपकी याद को कहां रख दें
Dr fauzia Naseem shad
#मजबूरिया
Dalveer Singh
लौटे स्वर्णिम दौर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
शब्दों से परे
Mahendra Rai
एक असमंजस प्रेम...
Sapna K S
दहेज़
आकाश महेशपुरी
Advice
Shyam Sundar Subramanian
हैं सितारे खूब, सूरज दूसरा उगता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
पढ़ाई कैरियर और शादी
विजय कुमार अग्रवाल
विश्वास और शक
Dr Meenu Poonia
उसने ऐसा क्यों किया
Anamika Singh
*खुशियों का दीपोत्सव आया* 
Deepak Kumar Tyagi
महेंद्र जी : संस्मरण एवं पुस्तक-समीक्षा
Ravi Prakash
🦃🐧तुम्हें देखा तुम्हें चाहा अब तक🐧🦃
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...