Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

*मीरा*

मीरा थी इक प्रेम दीवानी
चाहत उसकी अजब नूरानी
अपनी सच्ची प्रीत के कारण
गाथा है वो एक सुहानी

*धर्मेन्द्र अरोड़ा*

199 Views
You may also like:
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Satpallm1978 Chauhan
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आओ तुम
sangeeta beniwal
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
Loading...