Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-56💐

मिल्कियत तय कर दी,मेरा बजूद तय कर दिया,
संजीदा था बहुत संजीदा, मुझे बर्बाद कर दिया।।

©®अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

संजीदा-गंभीर और शांत, बुद्धिमान, हास्य परिहास में न पड़ने वाला, जिसके. व्यवहार या विचारों में गम्भीरता हो

Language: Hindi
65 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐अज्ञात के प्रति-84💐
💐अज्ञात के प्रति-84💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ऐसी बरसात भी होती है
ऐसी बरसात भी होती है
Surinder blackpen
भारतीय वनस्पति मेरी कोटेशन
भारतीय वनस्पति मेरी कोटेशन
Ms.Ankit Halke jha
सच्ची पूजा
सच्ची पूजा
DESH RAJ
चांद ने सितारों से कहा,
चांद ने सितारों से कहा,
Radha jha
बेटा ! बड़े होकर क्या बनोगे ? (हास्य-व्यंग्य)*
बेटा ! बड़े होकर क्या बनोगे ? (हास्य-व्यंग्य)*
Ravi Prakash
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
जीवन में ही सहे जाते हैं ।
Buddha Prakash
सिकन्दर वक्त होता है
सिकन्दर वक्त होता है
Satish Srijan
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
एक फूल....
एक फूल....
Awadhesh Kumar Singh
तुम चाहो तो मुझ से मेरी जिंदगी ले लो
तुम चाहो तो मुझ से मेरी जिंदगी ले लो
shabina. Naaz
प्रश्चित
प्रश्चित
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अमृत उद्यान
अमृत उद्यान
मनोज कर्ण
हार्पिक से धुला हुआ कंबोड
हार्पिक से धुला हुआ कंबोड
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
प्रेम
प्रेम
Dr.Priya Soni Khare
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
surenderpal vaidya
सबके दामन दाग है, कौन यहाँ बेदाग ?
सबके दामन दाग है, कौन यहाँ बेदाग ?
डॉ.सीमा अग्रवाल
चलो चलें वहां जहां मिले ख़ुशी
चलो चलें वहां जहां मिले ख़ुशी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"जब रास्ते पर पत्थरों के ढेर पड़े हो, तब सड़क नियमों का पालन
Dushyant Kumar
पत्रकारो द्वारा आज ट्रेन हादसे के फायदे बताये जायेंगें ।
पत्रकारो द्वारा आज ट्रेन हादसे के फायदे बताये जायेंगें ।
Kailash singh
मिस्टर जी आजाद
मिस्टर जी आजाद
gurudeenverma198
याद  में  ही तो जल रहा होगा
याद में ही तो जल रहा होगा
Sandeep Gandhi 'Nehal'
किसके हाथों में थामो गे जिंदगी अपनी
किसके हाथों में थामो गे जिंदगी अपनी
कवि दीपक बवेजा
तबकी  बात  और है,
तबकी बात और है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नारी
नारी
Bodhisatva kastooriya
Re: !! तेरी ये आंखें !!
Re: !! तेरी ये आंखें !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
शब्दों में समाहित है
शब्दों में समाहित है
Dr fauzia Naseem shad
खो गई जो किर्ति भारत की उसे वापस दिला दो।
खो गई जो किर्ति भारत की उसे वापस दिला दो।
Prabhu Nath Chaturvedi
वायरस और संक्रमण के शिकार
वायरस और संक्रमण के शिकार
*Author प्रणय प्रभात*
"मार्केटिंग"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...